म्हारा ओम बन्ना चोटिला मे बनीयो थारो धाम

म्हारा ओम बन्ना,
चोटिला मे बनीयो थारो धाम,
कोई बनीयो थारो धाम,
सेवकीया आया,
बारने ए ओ ओम बन्ना,
टाबरिया आया,
बारने ओ ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
क्षत्रिय कुल मे लिनो अवतार,
कोई जन्म लियो आप,
चोटिला नगरी मायने ओम बन्ना,
चोटिला नगरी मायने ओ ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
पूरो पूरो सब भगता री आस,
कोई सब भगता री आस,
कलयुग मे परचा जोर रा ओम बन्ना,
कलयुग मे परचा जोर रा ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
आवे आवे बालक ने नर नार,
थारे बालक ने नर नार,
टाबरिया री लजीया राखजो ओम बन्ना,
टाबरिया री लजीया राखजो ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
सातम् आठम् रो मेलो भरीजे जोर,
मेलो भरीजे जोर,
दुखीया ने सुखीया राखजो ओम बन्ना,
दुखीया ने सुखीया राखजो ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
पाली जोधाणो धर्म मार्ग आज,
कोई सत्त रो मार्ग आज,
चोटिला रा बैठा राजवी ओम बन्ना,
चोटिला रा बैठा राजवी ओम बन्ना।।

म्हारा ओंम बन्ना,
बाजे बाजे ढोल थाली मन्दिर माय,
कोई ढोल थाली मन्दिर माय,
श्याम पालीवाल गावतो म्हारा राज,
कोई सज्जन सिंह गुण गावता ओम बन्ना।।

म्हारा ओम बन्ना,
चोटिला मे बनीयो थारो धाम,
कोई बनीयो थारो धाम,
सेवकीया आया,
बारने ए ओ ओम बन्ना,
टाबरिया आया,
बारने ओ ओम बन्ना।।

Leave a Reply