म्हारा रोकड़िया हनुमान पधारो म्हारे आंगनिया

म्हारा रोकड़िया हनुमान,

दोहा – हनुमत तेरी धाक से,
धूजे लंका कोट,
करेली मजूरी राम की,
तूने पायो लाल लंगोट।

म्हारा रोकड़िया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

धूल्या रे माल्या बाबा रोड सुहाना,
निजी रोड़ा पर मंदिर प्यारा,
थारे धजा फरुके आसमान,
पधारो म्हारे आंगनिया,
मारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

बालाजी की मूर्ति रूपाली,
जंगल की प्यारी हरियाली,
थे मां अंजनी का लाल,
पधारो म्हारे आंगनिया,
मारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

सावण में जोड़ा छु आवे,
भगत थारे बाबा जोत जलावे,
थे तो भूतों का हो काल,
पधारो म्हारे आंगनिया,
मारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

संकट में आडा थे आओ,
भक्ता का बेड़ा बाबा पार लगाओ,
गोटा धारी देव,
पधारो म्हारे आंगनिया,
मारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

गोपालपुरी थारा गुण गावे,
चरणों में बाबा शीश नमावे,
मने चरणा में रखो देव,
पधारो म्हारे आंगनिया,
मारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

म्हारा रोकडिया हनुमान,
पधारो म्हारे आंगनिया।।

Leave a Reply