म्हारी खेडादेवी माँ दुजाना में रमता आवजो ए माँ

राजस्थानी भजन म्हारी खेडादेवी माँ दुजाना में रमता आवजो ए माँ
गायक – संत कन्हैयालाल जी।

म्हारी खेडादेवी माँ,
दुजाना में रमता,
आवजो ए माँ मावडी ए हा,
अरे मारी कुलदेवी ए माँ,
अरे भगतो रे बुलाया,
रमता आवजो ए माँ मावडी।।

ए म्हारी खेडादेवी माँ,
अरे दुजाना नगरी मे,
थारो देवरो ए माँ मावडी,
अरे खेडादेवी माँ,
अरे दुजाना नगरी में थारो,
देवरो ए माँ मावडी।।

ए मारी मुनडारा री माँ,
अरे आयोडा भगतो री,
आस पूर जे ए माँ मावडी,
ए मारी मुनडारा री माँ,
अरे आयोडा भगतो री,
आस पूर जे ए माँ मावडी।।

ए मारी कुलदेवी ए माँ,
अरे जाया रे परणीयोडी,
जाता लागती ए माँ मावडी,
ए मारी कुलदेवी ए माँ,
अरे जाया रे परणीयोडी,
जाता लागती ए माँ मावडी।।

ए मारी कुलदेवी ए माँ,
ओ माँ मुण्डारा नगरी में,
बनीयो देवरो ए माँ मावडी,
ए मारी चामुण्डा ए माँ,
थारे दुजाना नगरी रा आवे,
जातरू ए माँ मावडी।।

ए मारी मुण्डारा री माँ,
ए थोरे हिन्गलू नगरी ती आवे,
देवरे ए माँ मावडी,
अरे मारी कुलदेवी ए माँ,
हिन्गलू नगरी ती आवे,
देवरे ए माँ मावडी।।

ए मारी मुण्डारा री माँ,
प्रवीण बुरवाल कैसेट,
बनावता ए माँ मावडी,
ए मारी खेडादेवी ए माँ,
दास कन्हैयो जश गावता,
ए माँ मावडी।।

ए मारी मुण्डारा री माँ,
आज रा भजनों मे,
रमता आवजो ए माँ मावडी।।

Leave a Reply