रात सूती ने सपनो आयो लिरिक्स

।। दोहा ।।
ब्रह्मज्ञान की समझ में ,नहीं समझ कोई काम।
होठ कंठ हाले नहीं तो , तले लगे तमाम।

~ हिचकी याद सातवे ~

रात सूती ने माने सपनो जी आयो,
माने हिचकी याद सातवे,
जसोल वाली माजीसा ,
माने आपरी याद सातवे। २

उडियो उडियो जाये रे जसोल गढ़,
हालरियो हुलराव रे।२
जसोल वाली माजीसा। ………
रात सूती ने माने सपनो जी आयो,
माने हिचकी याद सातवे,
जसोल वाली माजीसा ,
माने आपरी याद सातवे। २

माथा मा मुखुत पेहेर भवानी ,
दिलडी रत्न जड़ावे रे। २
जसोल वाली माजीसा। ………
रात सूती ने माने सपनो जी आयो,
माने हिचकी याद सातवे,
जसोल वाली माजीसा,
माने आपरी याद सातवे। २

उडियो रे उडियो जाये डेह नगर ,
हालरियो हुलराव रे। २
डेह नगर वाली कुंजल माँ ,
मने आपरी याद सातवे।

गला मा हार पेहेर भावनी ,
तिलड़ी रत्न जड़ावे। २
डेह नगर वाली कुंजल माँ ,
मने आपरी याद सातवे।

ओ हेर लावो रे माने राज,
कुंजल मा ने हेर लावो ये

पगा मा पायल पेहेर भवानी ,
बिछिया रत्न जड़ावे। २
जसोल वाली माजीसा। ………
रात सूती ने माने सपनो जी आयो,
माने हिचकी याद सातवे,
जसोल वाली माजीसा।

रात सूती ने माने सपनो जी आयो,
माने हिचकी याद सातवे,
जसोल वाली माजीसा।
माने आपरी याद सातवे। २

रात सूती ने सपनो आयो लिरिक्स raat suti ne sapno aayo bhajan, sonu sisodiya bhajan

Leave a Reply