राधा सुनी सुनी लागे मारा श्याम बिना भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
ब्रज रज की महिमा अमर, ब्रज रस की है खान।
ब्रज रज माथे पर चढ़े, ब्रज है स्वर्ग समान।

राधा सुनी सुनी लागे ,
मारा श्याम बिना।
श्याम बिना घनश्याम बिना ,
राधा सुनी सुनी लागे ,
मारा श्याम बिना।

सागर नदिया जल बिन सुना ,
सिप मोती बिना।
बिना ज्योति अखिया है सुनी ,
होली रंग बिना।
राधा सुनी ….

कलम बिना कागज है सुनो ,
पतंग डोर बिना।
बिना बाती रा दिवला सुना ,
पंछी पंख बिना।
राधा सुनी ….

मणिया बिना माला है सुनी।
काया प्राण बिना।
बिना सूरज आकाश है सुनो ,
धरती कर्म बिना।
राधा सुनी ….

बिना बलद गाड़ी है सुनी ,
खेत बाड़ बिना।
बिना गुरु के ज्ञान है सुनो ,
निर्धन माया बिना।
राधा सुनी ….

बिना देवत मंदरियो सुनो ,
बाण धनुष बिना।
बिन शिवजी कैलाश है सुनो ,
हनुमत राम बिना।
राधा सुनी ….

प्रेम बिना जीवन है सुनो ,
भक्ति भाव बिना।
बिना भगत भगवान सुनो ,
सुरेश भजन बिना।

राधा सुनी सुनी लागे ,
मारा श्याम बिना।
श्याम बिना घनश्याम बिना ,
राधा सुनी सुनी लागे ,
मारा श्याम बिना।

भगवत सुथार के भजन | bhagwat suthar bhajan video

राधा सुनी सुनी लागे मारा श्याम बिना भजन radha suni suni lage shyam bina krishna bhaajn dj mix lyrics
कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- राधा सुनी सुनी लागे श्याम बिना
गायक :- भगवत सुथार

Leave a Reply