रूस गयो नंदलाल मारो भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
रात गवाई सोय के , दिवस गवायो खाय।
हीरा जन्म अमो सा , कोड़ी बदले जाय।

रूस गयो नन्दलाल मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।
जरा सी नाच ले मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।

कर सोलह सिणगार मारी राधा,
जल्दी हो तैयार।
मोह माया की लाली लगा ले,
प्रेम को सुरमो सार।
जरा सी नाच ले मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।
रूस गयो …..

बादल बरसण लगा ए गूंदी,
बाळपणा ने जाय।
समदर ताल कन्हैया भर ग्या,
भर ग्या कई तळाव।
जरा सी नाच ले मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।
रूस गयो …..

हाथा जोड़ी करले राधा,
दिल को फेर मिलाय।
थोड़ी सी हंसी आ जावे,
मिल जावे ताल में ताल।
जरा सी नाच ले मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।
रूस गयो …..

ई मुरली की धुन सूं राधा,
तीन लोक गरणाय।
कहे भगवान् सहाय सुण प्यारे,
कर दे ओ मालोमाल।
जरा सी नाच ले मारी राधा,
रूस गयो नन्दलाल।
रूस गयो …..

sukhdev bharti ke bhajan video

रूस गयो नंदलाल मारो rus gayo nandlal maro bhajan krishna bhajan lyrics in hindi
कृष्ण भजन लिरिक्स इन हिंदी
भजन :- रूस गयो नंदलाल
गायक :- सुखदेव भारती

Leave a Reply