ल्यादे रे ल्यादे सरजीवन बुटी ल्यादे भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
हनुमत तेरी धाक से धूजे लंका कोट।
पायक हो श्री राम ,पेरण लाल लंगोट।

ल्यादे रे ल्यादे संजीवन ,
बूटी ल्यादे हनुमत।
तेरे सिवा कोई और नहीं ,
मारी बिगड़ी बात बनादे। २।

में कैया अयोध्या जाऊ ,
कैया माँ ने मुख दिखलाऊ।
जद पूछेगी माँ कटे है लक्मण ,
साची बात बतादे।
ल्यादे रे ल्यादे। ….

तू वीर बड़ो है भारी ,
जाने की करो तैयारी।
द्रोणगिर पे वेद बताई ,
लक्मण ने लाई पिलादे।
ल्यादे रे ल्यादे। ….

दिन गणो नहीं पावे ,
आथूणो रेह जावे।
इतनो सुण चल्यो पवन सूत ,
चरणा में शीश नवाके
ल्यादे रे ल्यादे। ….

संजीवन हनुमत ले आया ,
लक्मण को गोट पिलाया।
तुलसी दास भजन कथ गाया ,
मारी नैया पार लगादे।
ल्यादे रे ल्यादे। ….

ल्यादे रे ल्यादे संजीवन ,
बूटी ल्यादे हनुमत।
तेरे सिवा कोई और नहीं ,
मारी बिगड़ी बात बनादे। २।

ल्यादे रे ल्यादे सरजीवन बुटी ल्यादे भजन लिरिक्स anwar chacha ke bhajan hanuman ji bhajan Lyrics

Leave a Reply