शेरावाली मैया क्यों तरसाओ भजन लिरिक्स

शेरावाली मैया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ,
दर्शन खातिर नैना तरसे दरश दिखाओ,
दर्शन खातिर नैना तरसे दरश दिखाओ,
शेरावाली मईया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ।।

लाल लाल चुनरी से माँ थाल सजाएं है,
दर्शन को तेरे मैया आस लगाए है,
आशीष देने को माँ हाथ बढ़ाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ,
शेरावाली मईया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ।।

फूलों का एक हार बनाया,
माँ तुमको पहनाएंगे,
हलवा पूरी का मैया भोग लगाएंगे,
कैसे रिझाऊंगी मात बताओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ,
शेरावाली मईया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ।।

अर्जी मेरी सुनले मैया गाकर के सुनाए है,
आजा भवानी इतनी देर क्यों लगाए है,
सेवक हम तेरे मैया मत बिसराओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ,
शेरावाली मईया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ।।

शेरावाली मैया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ,
दर्शन खातिर नैना तरसे दरश दिखाओ,
दर्शन खातिर नैना तरसे दरश दिखाओ,
शेरावाली मईया क्यों तरसाओ,
आकर हिये से हे मात लगाओ।।

दुर्गा माँ भजन शेरावाली मैया क्यों तरसाओ भजन लिरिक्स
तर्ज – झिलमिल सितारों का।

This Post Has One Comment

Leave a Reply