सतगुरु है रंगरेज चुनर मेरी रंग डारी भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
भक्ति बीज पटे नहीं ,जो जुग जाय अनंत।
उंच नीच घर अवतरे , जो रहे संत को संत।

मेरा सतगुरु भया रंगरेज ,
चूनर मारी रंग डाली।
रंग डाली दाता रंग डाली ,
चूनर मारी रंग डाली।

भाव की पूंजी नेका जल में ,
ज्ञान रंग दिया घोल।
ीतल चुनरी ओढ़ाय के रे,
खूब करि जकजोल।
चूनर मारी रंग डाली।
मेरा सतगुरु ….

सतगुरुसा ने चूनर रंग दी ,
सतगुरु चतुर सुजान।
सब कुछ गुरु पर वार दूं रे ,
तन मन धन और प्राण।
चूनर मारी रंग डाली।
मेरा सतगुरु ….

स्याह रंग छुड़ाय के दाता ,
दिया मजीठी रंग।
धोए से उतरे नहीं रे ,
दिन दिन होत सुरंग।
चूनर मारी रंग डाली।
मेरा सतगुरु ….

धर्मिदास कहे चूनर रंग दी,
मुझ पर कृपा दयाल।
शीतल चूनरी ओढ़ाय के दाता,
कर दिया प्रेम निहाल।
चूनर मारी रंग डाली।
मेरा सतगुरु ….

guru ji ke bhajan | नाथूराम हुड्डा bhajan video

सतगुरु है रंगरेज चुनर मेरी रंग डारी , satguru hai rangrez chunar meri rang dari, guru ji ke bhajan
इन हिंदी सतगुरु भजन लिरिक्स
भजन :- मेरा सतगुरु भया रंगरेज
गायक :- नाथूराम हुड्डा

Leave a Reply