सत री संगत म्हाने दीजो भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
सतगरु चन्दन बावना , दिन दिन दूणी वास।
अज्ञान हरण प्रकटिया ,जानत है निज दास।।

सत री संगत म्हाने दीजो गुरुजी ,
साध संगत मोहे दीजो जी।
बार बारम्हारी आ ही वीनती ,
आ किरपा कर दीजो जी ॥

साध संगत सुत ब्रह्मा चावे ,
बड़ा – बड़ा ऋषिराई जी ।
जो सुख है इण सतरी संगत में ,
वो सुख स्वर्गा नाँहि जी ॥
सत री संगत म्हाने। …..

माता साध पिता मेरा साधु ,
साधा रे संग डोूं जी ।
भजन भाव करूं साधां संग ,
साधा रे मुख बोलूं जी ॥
सत री संगत म्हाने। …..

आनंद रूप सदा मन व्यापे ,
सदा आनंद में झूलूं जी ।
पल पल करूं वीनती थांने ,
नाम घड़ी नहीं भूलूं जी ।
सत री संगत म्हाने। …..

निर्मल नैण वैण ज्यां रा निर्मल ,
निर्मल ज्यांरा अंगा जी ।
सूर कहे किरपा कर दीजो ,
उण संतों रा संगा जी ।
सत री संगत म्हाने। …..

सत री संगत म्हाने दीजो. Sat Ri Sangat Mhane dijo bhajan lyrics, prakash mali bhajan, guru dev bhajan, satguru bhajan

Leave a Reply