सभा है भरी भगवन भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
ब्रज की रज चंदन बनी, माटी बनी अबीर।
कृष्ण प्रेम रंग घोल के, लिपटे सब ब्रज वीर।

सभा है भरी भगवन,
भीड़ पड़ी।
आवो तो आवो हरी ,
किसविध देर करी।

पति मोये हारी ये ना बिचारी,
कैसे सभा में आयेगी नारी |
बाजी लगी थी भगवन कपट भरी,
आवो तो आवो हरि,
किसविध देर करी।
सभा है ….

दुष्ट दु:शासन वंश विनाशन,
खेंच रह्यो मेरे बदन को वासन |
नग्न करण की चित में करी ,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….

भीष्म पितामह, द्रोण गुरू देवा,
बैठे विदुरजी धर्म के खेमाँ |
सब की मति में , धुळ पड़ी,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….

आ भी जाओ मत तड़पाओ ,
कृष्ण हमारी लाज बचाओ।
देवकरण की आदत बुरी ,
आवौ तो आवौ हरि ,
किसविध देर करी।
सभा है ….

rajastahani desi bhajan video

सभा है भरी भगवन sabha hai bhari bhagwan lyrics krishna bhajan with lyrics rajastahani desi bhajan
भजन :- सभा है भरी भगवन
गायक :- धरणीधर और रूपाली

Leave a Reply