सांवरिया मारी अरज सुनो गिरधारी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
रज मंदिर निज़ आगली ,तो जड़ी संजीवनी जाण।
दर्शन से पातक जड़े ,तो साचो धनी कल्याण।

अरज सुणो बनवारी सांवरियां मारी,
अरज सुणो बनवारी।
अरज सुनो गिरधारी सांवरिया मारी,
अरज सुनो गिरधारी।

श्वास श्वास मे थारे सुमीरु दाता,
भूलों मति बनवारी।
भुल गया तो रे, लाज जावेगी,
हँसी होवेगी घणी थारी।
सांवरियां मारी अरज सुणो बनवारी। टेर।

माया नागणि कियो कुण्डल दाता,
ईण ते बेगी उबारो।
मोह माया ने रे,जाल फसायो,
अब सुध लेवो बनवारी।
सांवरियां मारी अरज सुणो बनवारी। टेर।

मै मतिहीन हूँ कछु नही जाणु दाता,
आयो शरण तिहारी।
भवसागर में रे, घणो दुख पायो,
अब की पार उतारो।
सांवरियां मारी अरज सुणो बनवारी। टेर।

आगे संत अनंत उभारिया दाता,
अबकी बारी हमारी।
दास मलूक कहे रे, भूल मति जाजो,
मने तो भरोसों बड़ो भारी।
सांवरियां मारी अरज सुणो बनवारी। टेर।

अरज सुणो बनवारी सांवरियां मारी,
अरज सुणो बनवारी।
अरज सुनो गिरधारी सांवरिया मारी,
अरज सुनो गिरधारी।

dinesh bhatt ke bhajan Music video Song

सांवरिया मारी अरज सुनो गिरधारी भजन, araj suno banwari raag maand bhajan lyrics in hindi
राग मांड भजन राजस्थानी
भजन :- अर्जी सुणो गिरधारी
गायक :- दिनेश भट्ट

Leave a Reply