साथी हारे का तू सांवरे साथ हर दम निभाना कन्हैया लिरिक्स

साथी हारे का तू सांवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया,
ज़िन्दगी है तेरे आसरे,
प्यार अपना लूटना कन्हैया,
साथी हारे का तू साँवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया।।

जिसकी नैया का माझी है तू,
नाव उसकी तो डूबे नहीं,
माझी बनकर मेरी नाव भी,
पार भव से लगाना कन्हैया,
साथी हारे का तू साँवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया।

होके लाचार आया हूँ मैं,
हार आंसू के लाया हूँ मैं,
लेके अपनी शरण सांवरे,
भाग मेरे जगाना कन्हैया,
साथी हारे का तू साँवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया।।

तेरे दर का ये इतिहास है,
हारे को जीत मिलती यहाँ,
‘मोहित’ लायक नहीं है तेरे,
अपने लायक बनाना कन्हैया,
साथी हारे का तू साँवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया।।

साथी हारे का तू सांवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया,
ज़िन्दगी है तेरे आसरे,
प्यार अपना लूटना कन्हैया,
साथी हारे का तू साँवरे,
साथ हर दम निभाना कन्हैया।।

कृष्ण भजन साथी हारे का तू सांवरे साथ हर दम निभाना कन्हैया लिरिक्स
तर्ज – जिंदगी प्यार का।

Leave a Reply