सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
पहले किसको मनाविये , किसका लीजे नाम।
मात पिता गुरु देव ने ,अलख पुरुष रो नाम।

सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा।

देवता दानव मानव सब सिमरे,
ऋशी मुनी थाने भजे सब शैषा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।

माता तुम्हारी महा माया गीरजा,
पिता तुम्हारे पार ब्रह्म महेशा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।

क्या गुणगान करे सब तेरा,
अल्प मती नही विद्या विशेषा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।

अचलुराम पर कृपा किजो,
काट दिजो मारा सर्व कलेशा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।

सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा,
दुर करो मेरा सकल कलेशा।
सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा।

gajanand ji ke bhajan video

सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा, simru pratham nit tumko ganesh ji bhajan lyrics in hindi
गणेश जी के भजन लिरिक्स इन हिंदी
भजन :- सिमरु प्रथम नित तुमको गणेशा
गायक :- नारायण दास जी

Leave a Reply