सूता रे वे तो जागो नींद सूं भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
भादूड़ा री दूज रो , जद चन्दो करे प्रकाश ।
रामदेव बण आव सूं , राखी जो विश्वास ।।

सूता रे वे तो जागो नींद सूं ,
बाबो थोरे घरे आया ओ ।
कळियुग रो अवतारी बाबो ,
असली रूप बणाया ओ ।
सूता रे वो तो जागो नींद सू ॥

रूणीचा में धाम आपरो ,
ज्यांरी लीला न्यारी ओ ।
मंदिरिया में बैठा बापजी ,
लीले रीअसवारी ओ ।
सूता रे वो तो जागो नींद सू ॥

ढोल नगारा नौबत बाजे ,
झालर री झणकारा ओ ।
आरतियाँ री शोभा प्यारी ,
झाँकी वरणी ना जावे ओ ।।
सूता रे वो तो जागो नींद सूं ।

भादरवा में मेळो लागे ,
गाँव रूणीचा माँहि ओ ।
दर्शण करवा दूर – दूर तूं ,
आवे नर ने नारी ओ ।।
सूता रे वो तो जागो नींद सूं ॥

भक्त मण्डल री अरज वीणती ,
दुखड़ा सबरा काटो ओ ।
साँचा मन सूं सेवा करजो ,
भाग जगावेला थांरा ओ ॥
सूतारेवो तो जागो नींद सूं ॥

suta re vo to jago nind su ,baba ramdev ji bhajan, ramdev ji bhajan, om prajapat bhajan, सूता रे वे तो जागो नींद सूं

Leave a Reply