हंसा सुंदर काया रो मत करजे अभिमान लिरिक्स

।। दोहा ।।
दौड़ सके तो दौड़ ले , जब लग तेरी दौड़।
दौड़ थकी धोखा मिट्या , वस्तु ठोड की ठोड।

हंसा सुन्दर काया रो ,
मत करजे अभिमान।
आखिर एक दिन जाणो रे ,
मालिक रे दरबार। २।

गर्भवास में दुःख पायो ,
जद हरी से करी पुकार।
पल भर विशराऊ नहीं ,
ऐ कॉल वचन किरदार। २।
हंसा सुन्दर। …..

आकर के संसार में ,
कभी ने भजियो राम
तीर्थ व्रत नहीं कीनो रे ,
नहीं कीनो सुखिरत काज।
हंसा सुन्दर। …..

कुटुंब कबीलो देख ने ,
गर्व कियो मन माय।
हंस अकेलो जासी रे ,
कोनहीं संग में जाय
हंसा सुन्दर। …..

राम नाम री बांध गाठड़ी ,
कर ले भव से पार।
वेद सुरखिया कहेत है ,
आसी थारे काम।
हंसा सुन्दर। …..

हंसा सुन्दर काया रो ,
मत करजे अभिमान।
आखिर एक दिन जाणो रे ,
मालिक रे दरबार। २।

हंसा सुंदर काया रो मत करजे अभिमान लिरिक्स hansa sundar kaya ro mat karje abhiman bhajan hindi Lyrics

Leave a Reply