kabhi pyase ko pani pilaya nahi lyrics in hindi | kabhi pyase ko pani pilaya nahi lyrics in hindi font | कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२
कभी गिरते हुए को उठाया नहीं,
बाद आंसू बहाने से क्या फायदा।

में तो मंदिर गया पूजा आरती की ,
पूजा करते ही मन में खयाल आ गया।
कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं ,
बाद पूजा करवाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

में तो सत्संग गया गुरुवाणी सुनी ,
गुरुवाणी को सुन कर खयाल आ गया।
जन्म मानव का लेके दया ना करी ,
फिर मानव कहलाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

मेने दान किया मैंने जपतप किया ,
दान करते ही मन में खयाल आ गया।
कभी भूखे को भोजन खिलाया नहीं ,
दान लाखो का करने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

गंगा नहाने हरिद्वार कासी गया ,
गंगा नहाते ही खयाल आ गया।
तन को धोया मगर मन को धोया नहीं ,
फिर गंगा नहाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

मैंने वेद पढ़े मैंने शास्त्र पढ़े ,
शास्त्र पढ़ते ही मन में खयाल आ गया।
मैंने ज्ञान किसी को बाटा नहीं ,
फिर ज्ञानी कहलाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

माता पिता के चरणों में चारो धाम है,
आजा आजा यही मुक्ति का धाम है।
माता पिता की सेवा की ही नहीं ,
फिर तीरथ पे जाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

भजन :- प्यासे को पानी पिलाया नहीं
गायक :- मास्टर राणा

Leave a Reply