rajasthani Kuchamani Bhajan text Lyrics | Pragtiya Banvari Hindi Bhajan Lyrics | प्रगटिया बनवारी

ऐ प्रगटिया बनवारी , ओ मुल्क मेवाड़ में ।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।२

ऐजी तानानगर , एक बाजु मायने।
ऐ मंगरो एक महान ,प्रभु मंगरो एक महान। २

ऐजी जूनो जुगाजी ,धुनिया तापे।
कई एक संत सुजान ,मणि में कई एक संत सुजान। २

ऐजी कई एक संत सुजानबनी के मायने ,
पण नाग रूप धर घर सधिना ,
ओ आयके तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।
ओ जी रे। ……. ओ मुल्क मेवाड़ में।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी

ऐजी देख रूप , एक विकराल नाग को।
ऐ ग्वालिया मतों बनाया ,बीरा ग्वालिया मतों बनाया।

ऐजी भील मायने ,पांच हज पिया
कैसो खेल रचायो ,बीरा खेल रचायो।

ऐजी कैसो खेल रचायो ,भक्ता के कारने।
पल भील मायनु गिरधर निकल्या ऐ बारने।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।
ओ जी रे। ……. ओ मुल्क मेवाड़ में।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।

ऐजी सीमाड़ा की, एक लाण पड़ी।
जद पंचा के मजधार ,बीरा पंचा के मजधार।

ऐजी राड मेटबा चालो बीचमे।
आन खड़ी सरकार , बीरा आन खड़ी सरकार।

ऐजी आन खड़ी सरकार, मूरत कभी जय करी।
पण राज कचेरिया कर पाछण में , लाग री।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।
ओ जी रे। ……. ओ मुल्क मेवाड़ में।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी

ऐजी धन धन भाग , जाग्या धरती का।
श्री मूंगाणा के माई , बीरा मूंगाणा के माई।

ऐजी थाली मांदल ढोल नगाड़ा।
सेहनाया घरनाय , ऐ घोखड़ा सेहनाया घरनाय।

ऐजी सेहनाया घरनाय घोखड़ा मायने।
श्री सांवरिया बिराज्या सिखर मंद , मायने।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।
ओ जी रे। ……. ओ मुल्क मेवाड़ में।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।

ऐजी महन्त श्री चेतन जी स्वामी ,
एक संत बड़ा उपकारी , जग संत बड़ा उपकारी।

ऐजी जीत मन से जो ध्यावे ,
जाकी लाज राखे बनवारी ,देखो लाज राखे बनवारी।

ऐजी लाज राखे बनवारी ,मेटे संताप हे
पण हाथ जोड़ ओमकार अरज करे आपने
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।
ओ जी रे। ……. ओ मुल्क मेवाड़ में।
तानागिर माई ,प्रगटिया बनवारी।

भजन :- प्रगटिया बनवारी
गायक :- जगदीश वैष्णव

Leave a Reply