धीन धीन ओ तंवरा री जाई पुंगलगढ परणाई ओ राम

धीन धीन ओ तंवरा री जाई, दोहा – आठ बरसरी डावडी,ने पाच बरस रो बीर,बचपन में मायत मरीया,ज्याने कुण तो बंधावे धीर। धीन धीन ओ तंवरा री जाई,पुंगलगढ परणाई ओ…

Continue Readingधीन धीन ओ तंवरा री जाई पुंगलगढ परणाई ओ राम