गाजण माँ मापर महर करे भजन लिरिक्स

गाजण माँ मापर महर करे, दोहा – माँ धर्मधारी मे बिराजीया,परिहारा री कुल री माँ,दर्शन आवे यात्री,माँ थारे बालक ने नर नार। ए परिहारा री कुलदेवी माँ,ए धर्मधारी मे परिहारा…

Continue Readingगाजण माँ मापर महर करे भजन लिरिक्स