सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग

सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग
सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग
हवा वीच उडदी जावांगी बाबा डोर हथों छड़ी ना मैं कटी जावांगी

बड़ी मुश्किल दे नाल मिलया मेनू तेरा द्वारा है …..२
मैनू इको तेरा आसरा नाल तेरा सहारा है बाबा तेरा सहारा है
हुन तेरे ही भरोसे हवा वीच उडदी जावांगी
बाबा डोर हथों छड़ी ना मैं कटी जावांगी
सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग

ऐना चरणों कमला वालों मैनू दूर हटाई ना बाबा दूर हटाई ना
इस झूठे जग दे अन्दर मेरा पेचा लाई ना बाबा पेचा लाई ना
जै कट गई ता सदगुरु फिर मैं लुटी जावांगी
बाबा डोर हथों छड़ी ना मैं कटी जावांगी
सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग
हवा वीच उडदी जावांगी बाबा डोर हथों छड़ी ना मैं कटी जावांगी

अज मलया बुआ आके मैं तेरे द्वारे दा बाबा तेरे द्वारे दा
हथ रखदे इक बारी तू मेरे सर ते प्यार दा ….२
मेरे जनम मरण दे गेडे तो मैं बचदी जावांगी
बाबा डोर हथों छड़ी ना मैं कटी जावांगी
सदगुरु मैं तेरी पतंग बाबा मैं तेरी पतंग

Leave a Reply