मेरे गुरु मुरारी लाल मन्नै रह हरदम तेरा ख्याल

मेरे गुरु मुरारी ाल मन्नै,
रह हरदम तेरा ख्याल,
तेरे बिन जिया ना जाता,
तेरे बिन जिया ना जाता

हो आवं याद पुराणी बातें थारी,
ज्ञान भरी मुलाकातें,
बातें कोनया कोए राग बणगे,
हंस बिना काग,
फिरुं मैं दर दर दुख पाता,
फिरुं मैं दर दर दुख पाता।।

हो गया जीवन बीच अंधेरा,
कोनया जोर चालता मेरा,
तेरा क्युकर भुलुं यान,
बणादी अधमी की पहचान,
मेरे भागय विधाता,
मेरे भागय विधाता।।

हो दो दो घंटे ध्यान लगाऊं,
फेर बी सुना सुना पाऊँ हो,
जाऊं कुणसे ऐसे देश,
जहां प तेरा हो प्रवेश,
मेरे प ढोया ना जाता,
मेरे प ढोया ना जाता।।

हो मेरा तुं हे बाबा श्याम मानुं,
आपको हनुमान,
तेरा रोहित स नादान कैसे,
हो तेरा गुणगान,
मुकेश प गाया ना जाता,
मुकेश प गाया ना जाता।।

मेरे गुरु मुरारी लाल मन्नै,
रह हरदम तेरा ख्याल,
तेरे बिन जिया ना जाता,
तेरे बिन जिया ना जाता।।

Leave a Reply