होली भजन लिरिक्स इन हिंदी,

होली भजन लिरिक्स इन हिंदी, holi bhajan lyrics in hindi,

रंग बरसे नाचे कृष्ण मुरारी रंग बरसे भजन लिरिक्स

रंग बरसे नाचे कृष्ण मुरारी रंग बरसे भजन लिरिक्स

रंग बरसे नाचे,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
राधा प्यारी रंग बरसे

टेढ़ो सा है मेरो बांके बिहारी,
है तीखी कटारी वृंदावन बिहारी,
मारे ज़ोर से पिचकारी,
मुरारी रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे।।

सांवलो है लाला और गोरी है लाली,
हाथों में दोनो के रंगो की थाली,
दोनो हुए पुरे लाल,
जो उड़ा गुलाल रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे।।

छाती फुलाए पहुँचे बरसाने,
पहुँचे बरसाने राधा को सताने,
लठ्ठ की मार ख़ाके भागे,
मुरारी रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे।।

नन्हे कान्हा ने गोवर्धन उठाया,
इंद्र की वर्षा से ब्रज को बचाया,
और होली पे सबको भीगाए,
लीला कैसी दिखाए रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे।।

रंग बरसे नाचे,
कृष्ण मुरारी रंग बरसे,
रंग बरसे नाचें,
राधा प्यारी रंग बरसे।।

होली खेलाँगे श्याम दे नाल आज मैनू रोको ना कोई लिरिक्स

होली खेलाँगे श्याम दे नाल,
आज मैनू रोको ना कोई,
रोको ना कोई वे,
मैनू टोको ना कोई,
होली खेलांगे श्याम दे नाल,
आज मैनू रोको ना कोई।।

गोप गोपीयाँ दे नाल रल के,
रंग लगावाँगे मल मल के,
जो ना उतरे सालों साल,
आज मैनू रोको ना कोई।।

आ जावो सब भर पिचकारी,
जान नि देना हुन कृष्ण मुरारी,
कर दाँगे अज नीला पीला लाल,
आज मैनू रोको ना कोई।।

तन रंग दांगे ते मन रंग दांगे,
भाव भजन जीवन रंग दांगे,
रंग रंग के हो जावाँगे निहाल,
आज मैनू रोको ना कोई।।

होली खेलाँगे श्याम दे नाल,
आज मैनू रोको ना कोई,
रोको ना कोई वे,
मैनू टोको ना कोई,
होली खेलांगे श्याम दे नाल,
आज मैनू रोको ना कोई।।

अरे जा रे हट नटखट ना छू रे मेरा घूँघट होली गीत लिरिक्स

अरे जा रे हट नटखट,
ना छू रे मेरा घूँघट।

अटक अटक झटपट पनघट पर,
चटक मटक इक नार नवेली,
गोरी गोरी ग्वालन की छोरी चली,
चोरी चोरी मुख मोरी मोरी,
मुसकाये अलबेली,
संकरी गली में मारी,
कंकरी कन्हैये ने,
पकरी बाँह और की अटखेली,
भरी पिचकारी मारी सारारारारा,
भोली पनिहारी बोली अरे रे रे रे।

अरे जा रे हट नटखट,
ना छू रे मेरा घूँघट,
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे,
मुझे समझो ना तुम,
भोली भाली रे,
आया होली का त्यौहार,
उड़े रंग की बौछार,
तू है नार नखरेदार मतवाली रे,
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे।।

तक तक ना मार,
पिचकारी की धार,
कोमल बदन,
सह सके ना ये मार,
तू है अनाड़ी बड़ा ही गँवार,
कजरे में तूने,
अबीर दिया डार,
तेरी झकझोरी से,
बाज़ आयी होरी से,
चोर तेरी चोरी निराली रे,
मुझे समझो ना तुम,
भोली भाली रे।।

धरती है लाल,
आज अम्बर है लाल,
उड़ने दे गोरी,
गालों का गुलाल,
मत लाज का,
आज घूँघट निकाल,
दे दिल की धड़कन पे,
धिनक धिनक ताल,
झाँझ बजे चंग बजे,
संग में मृदंग बजे,
अंग में उमंग खुशियाली रे,
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे।।

अरें जा रे हट नटखट,
ना छू रे मेरा घूँघट,
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे,
मुझे समझो ना तुम,
भोली भाली रे,
आया होली का त्यौहार,
उड़े रंग की बौछार,
तू है नार नखरेदार मतवाली रे,
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे।।

holi bhajan lyrics in hindi, Latest Krishna Bhajan · Lathmar Holi Barsana Part 2 · Mahra Gala Pe Gulal Holi Song · Bhajan Lyrics

मैं ना ना करती हार गई रंग डार गयो लिरिक्स

मैं ना ना करती हार गई,
रंग डार गयो,
डार गयो रंग डार गयो,
डार गयो रंग डार गयो,
मैं विनती कर कर हार गई,
रंग डार गयो।।

आयो अचानक आंगन में मोरे,
मोरी नरम कलइयां मरोड़ी,
मैं विनती कर कर हार गई,
रंग डार गयो,
मैं ना ना करती हार गयी,
रंग डार गयो।।

हाथ जोड़ मैंने विनती किन्ही,
उसने चुनरिया मोरी छीनी,
फिर छलिया सो मैं हार गई,
रंग डार गयो,
मैं ना ना करती हार गयी,
रंग डार गयो।।

मैं ना ना करती हार गई,
रंग डार गयो,
डार गयो रंग डार गयो,
डार गयो रंग डार गयो,
मैं विनती कर कर हार गई,
रंग डार गयो।।

मेरो बाँके बिहारी लाल खेले रंग होली भजन लिरिक्स

मेरो बाँके बिहारी लाल खेले रंग होली,
रंग होली रे गुलाल होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

हाथ लिए कंचन पिचकारी,
खेल रहयो मेरो बाँके बिहारी,
हाथ लिए कंचन पिचकारी,
खेल रहयो मेरो बाँके बिहारी
और झोली भरी गुलाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

वृन्दावन की है शोभा है न्यारी,
रंग भरे मोहन रँगीली श्यामा प्यारी,
वृन्दावन की है शोभा है न्यारी,
रंग भरे मोहन रँगीली श्यामा प्यारी,
और है रही सखी निहाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

कुंजन माहि मची है होरी,
जीती श्यामा कुंवर किशोरी,
कुंजन माहि मची है होरी,
जीती श्यामा कुंवर किशोरी,
मेरे कुञ्ज बिहारिन वाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

होरी है ये रस की रसीली,
रस की रसीली चटक मटकीली,
होरी है ये रस की रसीली,
रस की रसीली चटक मटकीली,
पागल ते चले नही चाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली,
रंग होली रे गुलाल होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली।।

होली आई होली आई मस्ती लाई मस्ती लाई लिरिक्स | तर्ज – बोलो तारा रारा। होली भजन लिरिक्स

होली आई होली आई होली आई,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

श्लोक – होली में चारो तरफ,
छाई अजब उमंग,
जगह जगह ढोलक बजते,
और बजे रे चंग,
राधे रानी श्याम के मुख पे,
मले रे गुलाल,
भर पिचकारी मार दे,
राधा को गोपाल।

होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई,
रंग लेके खेलते,
गुलाल लेके खेलते,
राधा संग होली,
नन्दलाल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

“ढोलक मंजीरा और,
चंग लेके नाचते,”- २
सखियाँ और सारे,
ग्वाल बाल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

“भर पिचकारी मारे,
राधा को कन्हैया,”- २
मुखड़े पे मल के,
गुलाल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

“राधा जी गुलाल मले,
श्याम जी के मुख पे,”- २
सारे आज होके,
लाल लाल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

“देवता भी होली यहाँ,
खेलने को आते है,” – २
ब्रम्हा विष्णु बाबा,
भोलानाथ खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

“‘शर्मा’ खाटु धाम की तो,
महिमा निराली है,”- २
भक्त यहाँ होली,
हर साल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई,
रंग लेके खेलते,
गुलाल लेके खेलते,
राधा संग होली,
नन्दलाल खेलते,
बोलो सारा रारा,
सारा रारा मदन गोपाल खेलते,
बोलो सारा रारा, जय हो,
होली आयी होली आयी होली आयी,
मस्ती लाई मस्ती लाई।।

सांवरिया आपा होली तो खेला रे भजन लिरिक्स

सांवरिया आपा होली तो खेला रे,
फागणियो आय गयो,
साँवरिया गिरधारी।।

सांवरिया थाने रंग में रंग देस्याँ जी,
सांवरिया थाने रंग में रंग देस्याँ जी,
थारे भर भर कर मारा म्हे,
रंग की पिचकारी।।

ढपली पर थाने नाच नचास्याँ जी,
ढपली पर थाने नाच नचास्याँ जी,
पग घुँघुरु बांध देवा,
सांवरिया गिरधारी।।

मन चाही थाने घूमर घुमास्या जी,
मन चाही थाने घूमर घुमास्या जी,
‘बनवारी’ बजवास्यां,
मीठी सी बाँसुरी।।

सांवरिया आपा होली तो खेला रे,
फागणियो आय गयो,
साँवरिया गिरधारी।।

यह मस्त महीना फागुन का श्रृंगार बना घर आंगन का लिरिक्स

यह मस्त महीना फागुन का,
श्रृंगार बना घर आंगन का,
इस रंग का यारों क्या कहना,
यह रंग है होली का गहना।।

आते है कान्हा सही मायने में,
रंग बरसाने बरसाने में,
बन जाते हैं छैला होली के,
गुण गाते नवल किशोरी के।।

कोई रंगता कोई रंगाता है,
कोई हंसता कोई हंसाता है,
दिल खोल बहारे हंसती है,
यह मस्तानों की मस्ती है।।

आनंद उन्माद का पार नहीं,
कहीं जोड़ी तो मनुहार कहीं,
कोई गाल गुलाले मलता है,
अपना सा मन मे लगता है।।

कहीं केशर रंग कमोरी में,
कहीं अबीर गुलाल है झोली में,
जिस मुखड़े पे ये रंग,
मंत्री के मुखड़े पे जचता है,
ये श्याम दीवाना लगता है।।

यह मस्त महीना फागुन का,
श्रृंगार बना घर आंगन का,
इस रंग का यारों क्या कहना,
यह रंग है होली का गहना।।

Aayi Re Aayi Re Holi Lyrics होली लिरिक्स Aayi Re Aayi Re Holi Lyrics Krishna Bhajan ( Holi Special ) तर्ज – होली के दिन

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply