आ जाओ मेरे साँवरे मंदिर को छोड़कर भजन लिरिक्स

आ जाओ मेरे साँवरे,
मंदिर को छोड़कर,
कब से बुा रहा हूँ,
घर बार छोड़कर,
आ जाओ मेरे सांवरे,
मंदिर को छोड़कर

कहते है तेरे पास है,
रहमत का खजाना,
थोड़ा सा उठा के,
झोली में डाल दे,
आ जाओ मेरे सांवरे,
मंदिर को छोड़कर।।

हारे का ये सहारा,
मेरा श्याम प्यारा है,
बिगड़ी मेरी बनाएगा,
मेरा श्याम प्यारा है,
आ जाओ मेरे सांवरे,
मंदिर को छोड़कर।।

फूलो में सज रहे है,
मेरे श्याम प्यारे जी,
बिगड़ी मेरी बनाएगा,
मेरा श्याम प्यारा जी,
आ जाओ मेरे सांवरे,
मंदिर को छोड़कर।।

आ जाओ मेरे साँवरे,
मंदिर को छोड़कर,
कब से बुला रहा हूँ,
घर बार छोड़कर,
आ जाओ मेरे सांवरे,
मंदिर को छोड़कर।।

Leave a Reply