इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Itna To Karna Swami Jab Praan Tan Se Nikle Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Itna To Karna Swami Jab Praan Tan Se Nikle Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics
कृष्ण भगवान का Beautiful Krishna Bhajan नॉनस्टॉप कृष्ण मधुर भजन | Beautiful Krishna Bhajan | Krishna Songs Krishna Bhajan भजन इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Itna To Karna Swami Jab Praan Tan Se Nikle Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics अनूप जलोटा जी का गाया हुआ है। इस भजन में बताया गया है की भक्तो को श्याम की सभी बाते कितनी प्यारी लगती है।

Itna To Karna Swami Jab Praan Tan Se Nikle Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले – २
गोविन्द नाम लेकर,,, फिर प्राण तन से निकले

श्री गंगा जी का तट हो,,,
यमुना का वंशीवट हो
मेरा सांवरा निकट हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

पीताम्बरी कसी हो
छवि मन में यह बसी हो
होठों पे कुछ हसी हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

श्री वृन्दावन का स्थल हो
मेरे मुख में तुलसी दल हो
विष्णु चरण का जल हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

जब कंठ प्राण आवे
कोई रोग ना सतावे
यम दर्शना दिखावे
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

उस वक़्त जल्दी आना
नहीं श्याम भूल जाना
राधा को साथ लाना
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

सुधि होवे नाही तन की
तैयारी हो गमन की
लकड़ी हो ब्रज के वन की
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

एक भक्त की है अर्जी
खुदगर्ज की है गरजी
आगे तुम्हारी मर्जी
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

ये नेक सी अरज है
मानो तो क्या हरज है
कुछ आप का फरज है
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

Itna To Karna Swami Jab Praan Tan Se Nikle Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

 

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply