तेरे द्वार खड़ा भगवान कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Tere Dwar Khada Bhagwan Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

तेरे द्वार खड़ा भगवान कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Tere Dwar Khada Bhagwan Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

कृष्ण भगवान का Beautiful Krishna Bhajan नॉनस्टॉप कृष्ण मधुर भजन | Beautiful Krishna Bhajan | Krishna Songs Krishna Bhajan भजन ​तेरे द्वार खड़ा भगवान कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Tere Dwar Khada Bhagwan Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics पूज्य जया किशोरी जी का गाया हुआ है। इस भजन में बताया गया है की हे मनुष्य तेरे सामने भगवान खड़ा है। जा उसकी शरण में जा और जनम मरण के इस चक्र से आज़ाद होजा।

 

तेरे द्वार खड़ा भगवान कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स

तेरे द्वार खड़ा भगवान हो,,,
तेरें द्वार खड़ा भगवान,,,
भगत भर दे रे झोली।।

तेरा होगा बड़ा एहसान,,,
कि जुग जुग तेरी रहेगी शान,,,
भगत भर दे रे झोली,,,
तेरें द्वारे खड़ा भगवान,,,
भगत भर दे रे झोली,,,
ओ भगत भर दे रे झोली।।

डोल उठी है सारी धरती देख रे,,,
डोला गगन है सारा,,,
भीख मांगने आया तेरे घर,,,
जगत का पालनहारा रे,,,
जगत का पालनहारा,,,
मै आज तेरा मेहमान,,,
कर ले रे मुझसे ज़रा पहचान
भगत भर दे रे झोली,,,
तेरे द्वारे खड़ा भगवान,,,
भगत भर दे रे झोली,,,
ओ भगत भर दे रे झोली।।

आज लुटा दे रे सर्वस्व अपना,,,
मान ले कहना मेरा,,,
मिट जायेगा पल मे तेरा,,,
जनम-जनम का फेरा रे,,,
जनम-जनम का फेरा,,,
तू छोड़ सकल अभिमान,,,
अमर कर ले रे तू अपना दान,,,
भगत भर दे रे झोली,,,
तेरे द्वार खड़ा भगवान,,,
भगत भर दे रे झोली।।

तेरें द्वार खड़ा भगवान हो,,,
तेरे द्वारे खड़ा भगवान,,,
भगत भर दे रे झोली।।

Tere Dwar Khada Bhagwan Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

Tere Dwar Khada Bhagwan Hoo
Tere Dwar Khada Bhagwan
Bhagat Bhar De Re Jholi

Tera Hoga Bada Ehsaan
Ki Jug Jug Teri Rahegi Shaan
Bhagat Bhar De Jholi
Tere Dwar Khada Bhagwan
Bhagat Bhar De Re Jholi
Oo Bhagat Bhar De Re Jholi

Dool Uthi Hai Sari Dharti Dekh Re
Doola Gagan Hai Saara
Bheekh Maangane Aaya Tere Ghar
Jagat Ka Palanhaara Re
Jagat Ka Palanhaara
Me Aaj Tera Mehmaan
Kar Le Re Mujhse Jara Pehchan
Bhagat Bhar De Re Jholi
Tere Dwar Khada Bhagwan
Bhagat Bhar De Re Jholi
Oo Bhagat Bhar De Re Jholi

Aaj Luta De Sarvasv Apna
Maan Le Kehna Mera
Mit Jayega Pal Me Tera
Janam Janam Ke Fera Re
Tu Chhod Sakal Abhiyaan
Amar Karle Re Tu Apna Daan
Tere Dwar Khada Bhagwan
Bhagat Bhar De Re Jholi
Oo Bhagat Bhar De Re Jholi

Tere Dwar Khada Bhagwan Hoo
Tere Dwar Khada Bhagwan
Bhagat Bhar De Re Jholi

This Post Has One Comment

Leave a Reply