भवसागर पड़ी मेरी नैया कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Bhavsagar Padi Meri Naiya Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

भवसागर पड़ी मेरी नैया कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Bhavsagar Padi Meri Naiya Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics
श्याम बाबा का एक अद्बुध भजन भवसागर पड़ी मेरी नैया कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Bhavsagar Padi Meri Naiya Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics सौरभ मधुकर जी ने इस मधुर और मीठे भक्ति से भरे भजन को गाया है , और इसके गायक हैं इनकी भक्ति से श्याम जी की कृपा बनी रहती है। बाबा श्याम अपने भक्तो पर अपना आशीर्वाद बनाये रखते है।

Bhavsagar Padi Meri Naiya Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

भवसागर पड़ी मेरी नैया
अब आ जा रे मेरे कन्हैया
कहीं डूब ना जाऊं मझधार में
मेरी नईया का बन जा खेवईया

बीच सभा में जब द्रौपदी ने
तुमको टेर लगाई थी
प्रेम के बंधन में बंध कर
तूने बहन की लाज बचाई थी

जब द्रौपदी ने तुमको पुकारा
आया बहना का बन के तू भइया
कहीं डूब ना जाऊं मझदार में
मेरी नइया का बन जा खेवईया

सखा सुदामा से साँवरिया
तूने निभायी थी यारी
मीरा के विष के प्याले को
अमृत कर दिया बनवारी

नानी,,,नरसी ने तुझको पुकारा
आया आया तू बंशी बजईया
कहीं डूब ना जाऊं मझधार में
मेरी नईया का बन जा खेवईया

जरा सामने तो आ साँवरिया
छुप छुप छलने में क्या राज है
यूँ छुप ना सकेगा तू मोहन
मेरी आत्मा की ये आवाज़ है

‘सौरभ मधुकर’ हमने सुना है
भगत बिना भगवान नहीं
भावना के भूखे है भगवन,,,
कहते वेद पुराण यही

आज मैंने भी तुझको पुकारा,,,
आके थाम ले मेरी तू बइयां
कहीं डूब ना जाऊं मझधार में
मेरी नईया का बन जा खेवईया

भवसागर पड़ी मेरी नैया
अब आ जा रे मेरे कन्हइया
कहीं डूब ना जाऊं मझधार में
मेरी नईया का बन जा खेवईया

Leave a Reply