श्याम नाम के हिरे मोती मैं बिखराऊं गली गली भजन लिरिक्स

श्याम नाम के हिरे मोती,
मैं बिखराऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली।।

दौलत के दीवानों सुनलो,
एक दिन ऐसा आएगा,
धन दौलत सब माल खजाना,
पड़ा यही रह जाएगा,
सुन्दर काया मिट्टी होगी,
चर्चा होगी गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली।।

भाई बंधू सगे संबंधी,
एक दिन तुझे भुलायेंगे,
जिनको तू अपना कहता है,
दो दिन का ये चमन खिला है,
फिर मुरझाए कली कली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली।।

झूठे धंधे छोड़ दे बन्दे,
जप ले हरी के नाम को,
क्यों करता है तेरी मेरी,
त्याग दे अभिमान को,
तुझे समय ये फिर ना मिलेगा,
फिर पछताए घड़ी घड़ी,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली।।

श्याम नाम के हिरे मोती,
मैं बिखराऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली,
ले लो रे ओ श्याम दीवानों,
टेर लगाऊं गली गली।।

Leave a Reply