श्याम रंग मन भायो कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Shyam Rang Man Bhayo Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

श्याम रंग मन भायो कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Shyam Rang Man Bhayo Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

कृष्ण भगवान का Beautiful Krishna Bhajan नॉनस्टॉप कृष्ण मधुर भजन | Beautiful Krishna Bhajan | Krishna Songs Krishna Bhajan भजन श्याम रंग मन भायो कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स – Shyam Rang Man Bhayo Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics जया किशोरी जी ने इस मधुर और मीठे भक्ति से भरे भजन को गाया है , और इसके गायक हैं भजन के कृष्ण भगवान,श्याम जी,मोहन लिरिक्स हिंदी और अंग्रेजी में ( इन इंग्लिश) इस वेबसाइट पर उपलब्ध हैं सिर्फ आपके लिए, ताकि आपका ज्ञान बढ़ सके और आप अपने आप को भक्ति भजन धरा में पाएं.

Shyam Rang Man Bhayo Krishna Bhajan, Mohan ji, shyam ji ke bhajan Lyrics

दीवानी मैं श्याम की,,,
मुरली के तान की,,,
बाजी जो मुरलिया ऐसी,,,
सुध नहीं प्राण की,,,

भायो रे भायो रे भायो रे,,,
भायो रे भायो रे भायो रे,,,

श्याम रंग मन भायो,,,
श्याम रंग मन भायो मेरे,,,
श्याम तन मन छायो,,,
श्याम रंग मन भायो मेरे।।

श्याम पिया की बन के जोगनिया,,,
रंग गयी उस रंग में,,,
जग संसार निगोडा लागे,,,
श्याम बसे अंग में,,,
राधा के संग में,,,

मस्तानी मैं श्याम की,,,
राधे कृष्णा नाम की,,,
सावरी सलोनी सूरत,,,
मेरे घनश्याम की,,,

भायो रे भायो रे भायो रे,,,
भायो रे भायो रे भायो रे,,,

श्याम रंग मन भायो,,,
श्याम रँग मन भायो,,,
श्याम तन मन छायो,,,
श्याम रंग मन भायो मेरे।।

श्याम ही तन में,,,
श्याम ही मन में,,,
श्याम ही जीवन में,,,
श्याम की धुन में,,,
छम छम नाचू,,,
बावरिया बन के,,,
पायलिया खनके,,,

मतवारी मैं श्याम की,,,
माला हरी नाम की,,,
गले में विराजू जैसे,,,
झटा गूँज माल की,,,

भायो रे भायो रे भायो रे,,,
भायो रे भायो रे भायो रे,,,

श्याम रंग मन भायो,,,
श्याम रँग मन भायो,,,
श्याम तन मन छायो,,,
श्याम रँग मन भायो मेरे।।

याद में तेरी ओ साँवरिया,,,
दिन बीते और रैन,,,
प्यास बुझेगी कब इस मन की,,,
कब आएगा चैन,,,
बरसत तुम बिन नैन,,,

श्याम मेरा यार है,,,
श्याम दिलदार है,,,
आँधी किसी लाकड़ी का,,,
श्याम आधार है,,,

भायो रे भायो रे भायो रे,,,
भायो रे भायो रे भायो रे,,,

श्याम रँग मन भायो,,,
श्याम रँग मन भायो,,,
श्याम तन मन छायो,,,
श्याम रँग मन भायो मेरे।।

ना जप जानू,,,
ना तप जानू,,,
ना भक्ति का मोल,,,
मेरे गिरिधर,,,
मैं गिरिधर की
बात जया अनमोल,,,
सावरिया कुछ बोल,,,

सावरे का साथ है
सावरे का हाथ है
मेरे सा दीन कोई
वो दीनो का नाथ है

भायो रे भायो रे भायो रे,,,
भायो रे भायो रे भायो रे,,,

श्याम रंग मन भायो,,,
श्याम रँग मन भायो,,,
श्याम तन मन छायो,,,
श्याम रँग मन भायो मेरे।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply