सांवरिया मेरे सांवरिया मेरे मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है

कृष्ण भजन सांवरिया मेरे सांवरिया मेरे मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है
स्वर – रवि बेरीवाल जी।
तर्ज – मेहबूब मेरे मेहबूब मेरे।

सांवरिया मेरे सांवरिया मेरे,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे,
मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे।।

तू जो संग है लड़ जाऊं दुनिया से सारी,
हो जो दुश्मन कोई भी पड़ जाऊं भारी,
तू रक्षक है मेरा तो डर भक्षक से नही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे,
मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे।।

जिस नैया का तू माझी वो चलती जाए,
तूफानों में भी नैया डूब नही पाए,
जो नैया श्याम हवाले वो डूबती नही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे,
मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे।।

मेरे सिर पर सांवरिया हाथ तुम्हारा है,
‘निर्मल’ का क्या कुछ बिगड़े जब साथ तुम्हारा है,
मुझमे हिम्मत है तेरी कोई तुमसा नही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे,
मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे।।

सांवरिया मेरे सांवरिया मेरे,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे,
मेरा एक भरोसा तुझ पर यही है,
जो तू है संग तो मुझे डर नहीं है,
साँवरिया मेरे साँवरिया मेरे।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply