हमें श्याम ना मिला सुन राधिका दुलारी भजन लिरिक्स

हमें श्याम ना मिला,

सुन राधिका दुलारी,
मैं हूँ द्वार का भिखारी,
तेरे श्याम का पुजारी,
एक पीड़ा है हमारी,
हमें श्याम न मिला,
हमें श्याम न मिला।।

हम समझे थे कान्हा कही,
कुंजन में होगा,
अभी तो मिलन का हमने,
सुख नहीं भोगा,
ओ सुनके प्रेम कि परिभाषा,
मन में बंधी थी जो आशा,
आशा भई रे निराशा,
झूटी दे गया दिलाशा,
किसी गैर ना मिला,
किसी गाँव ना मिला,
हमें श्याम न मिला,
हमें श्याम न मिला।।

देता है कन्हाई जिसे,
प्रेम कि दीक्षा,
सब विधि उसकी लेता,
भी है परीक्षा,
ओ कभी निकट बुलाये,
कभी दूरियाँ बढ़ाये,
कभी हंसाये रुलाये,
छलिया हाथ नहीं आये,
अपनी प्रीत का कोई,
परिणाम ना मिला,
हमें श्याम न मिला,
हमें श्याम न मिला।।

ओ अपना यहाँ जिसे,
कहे सब कोई,
उसके लिए मैं,
दिन रात रोई,
ओ नेह दुनिया से तोड़ा,
नाता सांवरे से जोड़ा,
उसने ऐसा मुख मोड़ा,
हमें कही का ना छोड़ा,
हमने मन तो दिया,
मन का दाम ना मिला,
हमें श्याम न मिला,
हमें श्याम न मिला।।

हम तुम दोनों एक,
पथ के बटोही,
हाय रे हमारा श्याम,
पिया निर्मोही,
ओ जिया से पिया नहीं जाए,
पिया बिन जिया नहीं जाए,
दोष दिया नहीं जाए,
रोष किया नहीं जाए,
हमें तज के ये काम,
कोई काम ना मिला,
हमें श्याम न मिला,
हमें श्याम न मिला।।

सुन राधिका दुलारी,
मैं हूँ द्वार का भिखारी,
तेरे श्याम का पुजारी,
एक पीड़ा है हमारी,
हमें श्याम ना मिला,
हमें श्याम न मिला।।

Leave a Reply