हार के मैं आया हूँ तेरे दरबार में भजन लिरिक्स

कृष्ण भजन हार के मैं आया हूँ तेरे दरबार में भजन लिरिक्स
Singer – Sanjeev Sharma
तर्ज – छुप गया कोई रे दूर से।

हार के मैं आया हूँ,
तेरे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

सुना तेरी चौखट पे,
कोई नहीं हारा है,
ये ही सुनकर तो बाबा,
दास तेरा आया है,
लाज मेरी रखना बाबा,
अपने खाटू धाम में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

आज अपने दिल की बात,
भक्त बताएगा,
भजनो की गंगा से वो,
तुमको रिझाएगा,
आज सुनवाई होगी,
सांचे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

दुनिया में डंके बजते,
बाबा तेरे नाम के,
कुछ तो हक़ीक़त होगी,
तेरे खाटू धाम में,
‘संजीव’ की दुनिया बाबा,
तेरे चरणों धाम में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

हार के मैं आया हूँ,
तेरे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply