हे बनवारी तरसे है नैना भजन लिरिक्स

हे बनवारी तरसे है नैना,
रातों में नींद ना दिन को है चैना,
हे बनवारी तरसें है नैना

बागों में कान्हा रास रचाते,
में क्या से क्या बन जाते,
तुझसे कोई बात छुपे न छुपे ना,
हे बनवारी तरसें है नैना।।

धरती से पाप मिटाना होगा,
मेरी कसम तुम्हे आना होगा,
तुझ बिन कोई बात बने ना,
हे बनवारी तरसें है नैना।।

कैसे मैं भेजूं तुम तक पतिया,
तुम जानत हो मन की बतियां,
तुझसे कोई बात छुपे ना,
हे बनवारी तरसें है नैना।।

तुम बिन कौन सहारा मेरा,
कोई सुने ना मेरा प्रभुजी दुखड़ा,
हे घनश्याम मेरे दिल में रहना,
हे बनवारी तरसें है नैना।।

हे बनवारी तरसे है नैना,
रातों में नींद ना दिन को है चैना,
हे बनवारी तरसें है नैना।।

Leave a Reply