म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम, मन रो मोरलीयो रटे थारो नाम,मारी झूपडीया आवो मारा राम,एक बार आया पूरो होवे सब काम,मारी झूपडीया आवो मारा राम।। सूरज उगे रे मारी उगती…

Continue Reading म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

खाटू के श्याम धणी की महिमा अपार है भजन लिरिक्स

खाटू के श्याम धणी की,महिमा अपार है,जो माँगना है सो माँगो,सच्चा दरबार है,खाटु के श्याम धणी की।। कलयुग में हारो का तो,जीना मुहाल है,जीना मुहाल है,इस झूठे जग में ये…

Continue Reading खाटू के श्याम धणी की महिमा अपार है भजन लिरिक्स

शादी करा दे मेरी राधा के साथ भजन लिरिक्स

शादी करा दे मेरी राधा के साथ, सेवा करेगी तेरी दिन और रात,शादी करा दे मेरी राधा के साथ,विनती करूँ माँ तेरे जोड़ूँ मैं हाथ,विनती करूँ माँ तेरे जोड़ूँ मैं…

Continue Reading शादी करा दे मेरी राधा के साथ भजन लिरिक्स

यह कल कल छल छल बहती क्या कहती गंगा धारा लिरिक्स

यह कल कल छल छल बहती,क्या कहती गंगा धारा,युग युग से बहता आता,यह पुण्य प्रवाह हमारा,यह पुण्य प्रवाह हमारा।। हम इसके लघुतम जल कण,बनते मिटते है क्षण क्षण,अपना अस्तित्व मिटा…

Continue Reading यह कल कल छल छल बहती क्या कहती गंगा धारा लिरिक्स

रक्त शिराओं में राणा का रह रह आज हिलोरे लेता लिरिक्स

रक्त शिराओं में राणा का,रह रह आज हिलोरे लेता,मातृभूमि का कण कण तृण तृण,हमको आज निमंत्रण देता।। वीर प्रसुता भारत माँ की,हम सब हिन्दु है संताने,हर विपदा जो माँ पर…

Continue Reading रक्त शिराओं में राणा का रह रह आज हिलोरे लेता लिरिक्स

जान रहे ना रहे देश ज़िंदा रहे देशभक्ति गीत लिरिक्स

जान रहे ना रहे देश ज़िंदा रहे,मौत हो सामने ना डरो,बचाने में वतन की लाज,तू लड़ जाना तू मर जाना,उठा हथियार सीमा पे,तू लड़ जाना तू मर जाना।। उठे जो…

Continue Reading जान रहे ना रहे देश ज़िंदा रहे देशभक्ति गीत लिरिक्स

दो दो गुजरीया के बीच में अकेलो सावरियो लिरिक्स

दो दो गुजरीया के बीच में,अकेलो सावरियो,दो दो गुजरिया के बीच में,अकेलो सावरियो,अकेलो सावरियो रे अकेलो सावरियो,अकेलो सावरियो रे अकेलो सावरियो,दो दो गुजरिया के बीच में,अकेलो सावरियो।। एक गुजरी केवे…

Continue Reading दो दो गुजरीया के बीच में अकेलो सावरियो लिरिक्स

कोटि कोटि हिन्दुजन का हम ज्वार उठा कर मानेंगे

कोटि कोटि हिन्दुजन का,हम ज्वार उठा कर मानेंगे,सौगंध राम की खाते हैं,भारत को भव्य बनाएंगे,भारत को भव्य बनाएंगे।। भ्रष्टाचार से मुक्त हो भारत,ऐसी अलख जगाएंगे,देश द्रोह करने वालो को,मिलकर सबक…

Continue Reading कोटि कोटि हिन्दुजन का हम ज्वार उठा कर मानेंगे