कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
वृन्दावन सो वन नही, और नन्द गांव सो गांव।
राधे सी राणी नहीं, कृष्ण श्याम सो नाम।

कीर्तन की है रात ,
बाबा आज थाने आणो है।
थाने कोल निभाणो है।

दरबार साँवरिया, ऐसो सज्यो प्यारो ,
दयालु आपको।
सेवा में सांवरिया, सगळा खड़या दिखे,
हुकम बस आपको।
सेवा में थारी, म्हाने आज बिछ जाणो है ,
थाने कोल निभाणो है।
कीर्तन की है रात ,
बाबा आज थाने आणो है। टेर।

कीर्तन की है त्यारी, कीर्तन करा जमकर ,
प्रभु क्यों देर करो।
वादों थारो दाता, कीर्तन में आने को,
घनी क्यों देर करो।
भजना सु थाने, म्हाने आज रिझाणो है ,
थाने कोल निभाणो है।
कीर्तन की है रात ,
बाबा आज थाने आणो है। टेर।

जो कुछ बण्यो म्हासु, अर्पण प्रभु सारो ,
प्रभु स्वीकार करो।
नादान सु गलती, होती ही आई है ,
प्रभु मत ध्यान करो।
नंदू सांवरिया, थारो दास पुराणों है ,
थाने कोल निभाणो है।
कीर्तन की है रात ,
बाबा आज थाने आणो है। टेर।

jaya kishori ji ke bhajan

कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है भजन लिरिक्स, kirtan ki hai raat krishna bhajan hindi lyrics
कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- कीर्तन की है रात
गायिका :- जया किशोरी जी

 

Leave a Reply