चांदनी चौदस रा सेवक सुन्धा जी पधारीया भजन लिरिक्स

चांदनी चौदस रा सेवक,
सुन्धा जी पधारीया,
माताजी रे काई काई ाया ओ भाईडा,
माताजी रे काई काई लाया ओ भाईडा,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली,
चुनड़ माँ री तारकोटा वाली

सुन्देा कुल री माता चामुण्डा कहिजे,
सुन्देशा कुल री माता सुन्धा माँ कहिजे,
सेवकीया तो पैदल द्वारे आया ओ माताजी,
सेवकीया पैदल द्वारे आया ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

सिर पर रखडी लाया नाक में नथडी,
सिर पर रखडी लाया नाक माई नथडी,
गला माई हार प्यारो लाया ओ माताजी,
गले मे हार प्यारो लाया ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

लाल चुनडीया वाली सुन्धा माँ कहिजे,
लाल चुनडीया वाली सुन्धा माँ कहिजे,
ए सेवक रमता द्वारे आया ओ माताजी,
सेवकीया रमता द्वारे आया ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

थारा सेवकीया सुन्धा माता ने बुलावे,
थारा टाबरिया माताजी थाने ए बुलावे,
राती जोगो दर्शन थेतो देवो ओ माताजी,
राती जोगो दर्शन थेतो देवो ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

ए सिंह सवारी माता चामुण्डा पधारे,
सिंह सवारी माता सुन्धा जी पधारे,
संग माई काला गोरा लावो ओ भेरूजी,
संग माई काला गोरा लावो ओ भेरूजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

सुन्धा पर्वत ऊपर चामुण्डा बिराजे,
सुन्धा पर्वत ऊपर सुन्धा माँ बिराजे,
नवरात्रि मे मेलो घणो लागे ओ माताजी,
नवरात्रि मे गरबा रमवा आवो ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

अवतानी सुन्देशा परिवार गुण थारा ही गावे,
अवतानी सुन्देशा परिवार गुण थारा ही गावे,
संतो से काजल रेखा आवे ओ माताजी,
संतों से काजल रेखा आवे ओ माताजी,
प्रेमलता थारी चुनड़ लायी,
चुनड़ माँ री तारकोटा वाली।।

सब रे भगता पर मैया छत्तर छाया राखो,
सबरे भगता पर माता छत्तर छाया राखो,
श्याम पालीवाल’ गुण गावे ओ माताजी,
सेवकीयो गुण थारा गावे ओ माताजी,
चुनड माँ री तारकोटा वाली,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली।।

चांदनी चौदस रा सेवक,
सुन्धा जी पधारीया,
माताजी रे काई काई लाया ओ भाईडा,
माताजी रे काई काई लाया ओ भाईडा,
चुनड़ माँ री लहर लुम्बा वाली,
चुनड़ माँ री तारकोटा वाली।।

Leave a Reply