परचासु पीर केवाया ओ रामा रामदेवजी भजन

परचासु पीर केवाया ओ रामा,
परशासु पीर केवाया ओ,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

पालने आवे नी मारा,
प्रेम गुरु पोढिया रे,
हालरिये हुलराया ओ रामा,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

पीरजी पधारिया नी,
आलम जानिया रे,
मेतल रे वर पाया ओ रामा,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

बिज ने भाद्रवा रो,
जमलो जगायो रे,
रूपारे वायक आया ओ रामा,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

ले रे खड़क रावलमाल,
दे जी कॉपियां ओ,
थाली में बाग़ लगायो रे रामा,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

हरी रे शरणा में भाटी,
हरजी यु बोलिया रे,
जुगड़ा में ज्योत सवाई ओ रामा,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

परचासु पीर केवाया ओ रामा,
परशासु पीर केवाया ओ,
रमता रामदेव रणुजे भले आया,
रे राम मारा पीर जी,
द्वारकासु आया ओ राम।।

Leave a Reply