सोना वालो पालणो चौबारा के माई भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
बीरा वेगा थे आवजो ,म्हारी लीजो सार संभाल।
था बिन म्हारो कोण आसरो ,मेणा दे रा लाल।

सोना वालो पालणो ,
चौबारा के माँय।
पालणा में प्रकटिया ,
देखो म्हारा दीनदयाल।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

कुंकुं पगल्या मांडिया ,
अजमल रे घर आय।
घर रो पाणी बापजी ,
लीनो दूध बनाय।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

सात दीना रो गीगलौ ,
परचो दियो बताय।
दूध उफणतौ हाथ सु ,
पल में दियो दबाय।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

छम छम बाजे घुँघरा ,
पालणिया री डोर।
अब तो सोजा लाडला ,
होवण लागी भोर।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

पोढ़या पढ़या बापजी ,
धीरे से मुसकाय।
गोदया में ले मावड़ी ,
लीनो कंठ लगाय।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

रामदेव रो पालणो ,
दास अशोक सुनाय।
निज भगता ने बापजी ,
दीजो दर्श दिखाय।
माता मेणा दे हुलराय।
धीमा धीमा हिंदा देवे ,
हँस हँस ने बतलाय।
गीगा सोजा म्हारा लाल।
भाग म्हारा जागा ,
आँगन आया दीनदयाल।

kirti joshi ke bhajan,

नीली निम्बड़ी रे जिका जरमरिया सा पान भजन लिरिक्स

सोना वालो पालणो चौबारा के माई भजन sona walo palno chobara ke maay baba ramdev ji hindi bhajan
रामदेव जी के भजन लिखे हुए,
भजन :- सोना वालो पालणो,
गायिका :- कीर्ति जोशी,

Leave a Reply