है शंकर का सहारा जग में बड़ा शिव भजन लिरिक्स

है शंकर का सहारा जग में बड़ा,
भोलेनाथ का सहारा जग में बडा,
शंभु का सहारा।।

आदि है अनादी है शिव,
योगीयो के योग है,
जतन है जतीयो के,
भोले सत का सहयोग है,
आदि है अनादी है शिव,
योगीयो के योग है,
जतन है जतीयो के,
भोले सत का सहयोग है,
शिव शक्ति का प्यारा जग में बड़ा,
भोले का सहारा।।

ब्रम्हा जी विष्णु जी नारद,
सारद सुनाते हैं,
भोले की महिमा श्री चारो,
वेदो में बताते हैं,
ब्रम्हा जी विष्णु जी नारद,
सारद सुनाते हैं,
भोले की महिमा श्री चारो,
वेदो में बताते हैं,
लगता है जयकारा जग में बड़ा,
भोले का सहारा।।

रूप है अनोखा ऐसा,
वेश ना किसी का है,
त्रिलोचन बाबा का ध्यान,
चारो ही दिशि का है,
रूप है अनोखा ऐसा,
वेश ना किसी का है,
त्रिलोचन बाबा का ध्यान,
चारो ही दिशि का है,
वो इष्ट है हमारा जग में बड़ा,
भोले का सहारा।।

गले सर्पो की माला,
झलके कुण्डल कान है,
शिश पे चंदा ओर गंगा,
भगतो को वरदान है,
गले सर्पो की माला,
झलके कुण्डल कान है,
शिश पे चंदा ओर गंगा,
भगतो को वरदान है,
मिलेगा किनारा जग में बड़ा,
भोले का सहारा।।

नानु पंडित गावे भजन मे,
महिमा अपार है,
पार करियो नाथ मेरी,
नाव तो मजधार है,
नानु पंडित गावे भजन मे,
महिमा अपार है,
पार करियो नाथ मेरी,
नाव तो मजधार है,
देना जी किनारा जग में बड़ा,
भोले का सहारा।।

है शंकर का सहारा जग में बड़ा,
भोलेनाथ का सहारा जग में बडा,
शंभु का सहारा।।

Leave a Reply