रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम भजन लिरिक्स

जया किशोरी जी रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम भजन लिरिक्स
स्वर – जय किशोरी जी।

रघुपति राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम,
सीताराम सीताराम,
भज प्यारे तू सीताराम,
रघुपतिं राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम।।

सुंदर विग्रह मेघ श्याम,
गंगा तुलसी शालग्राम,
रघुपतिं राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम।।

भद्रगिरीश्वर सीताराम,
भक्त जनप्रिय सीताराम,
रघुपतिं राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम।।

जानकीरमणा सीताराम,
जय जय राघव सीताराम,
रघुपतिं राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम।।

रघुपति राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम,
सीताराम सीताराम,
भज प्यारे तू सीताराम,
रघुपतिं राघव राजाराम,
पतित पावन सीताराम।।

रघुपति राघव राजा राम के रचयिता कौन है?

रघुपति राघव राजा राम – राम धुन- एक प्रसिद्ध भजन है जिसके रचयिता श्री लक्ष्माणाचार्य हैं, तथा यह महात्मा गांधी का सबसे पसंदीदा भजन था।

रघुपति राघव राजा राम पतित पावन सीता राम में कौन सा अलंकार है?

रघुपति राघव राजा राम’ में अनुप्रास अलंकार होता है।

रघुपति राघव राजा राम भक्ति गीत के संगीतकार कौन हैं?

जिसके रचयिता श्री लक्ष्माणाचार्य हैं

रघुपति राघव राजा राम पति के पावन सीता राम का अर्थ क्या है?

बापू के प्रिय भजन रघुपति राघव राजा राम, पतित पावन सीताराम का गायन किया।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply