मैं साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा,
तेरी कृपा को मेरे बाबा,
मै न भूलूँगा,
मै साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा।।

करे सब चर्चा जिसकी,
वो ज्योति जगा देना,
गाए सब महिमा जिसकी,
वो नाम लखा देना,
नाम का जाम पिला कर बाबा,
करदो दीवाना,
जाम का और मैकस का रिश्ता,
मै न भूलँगा,
मै साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा।।

तू साँई ईष्ट है मेरा,
मै तेरा पुजारी हूँ,
तू कहलाता है दाता,
मै दर का भिखारी हूँ,
देकर भक्ती दान ओ बाबा,
मुझको दास बनालो,
स्वामी और सेवक का रिश्ता,
मै न भूलूँगा,
मै साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा।।

अगर बाबा हो जाए,
दया तेरी मुझ पर भी,
मेरा तो निर्भर है,
सभी कुछ तुम पर ही,
ये साँसे चलती रहे,
तुम्ही को भजती रहै,
हाथो मे पतवार ले मेरा,
तू माँझी बनजा,
माँझी और नैया का रिश्ता,
मै न भूलूँगा,
मै साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा।।

मैं साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा,
तेरी कृपा को मेरे बाबा,
मै न भूलूँगा,
मै साँई बोलूँगा,
साँई साँई बोलूँगा।।

साईं बाबा भजन मैं साँई बोलूँगा साँई साँई बोलूँगा तेरी कृपा को मेरे बाबा
तर्ज – मै न भूलूँगा।

See also  जय बजरंगबली स्वामी जय बजरंगबली आरती लिरिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *