गाना: मलंग (शीर्षक गीत)
फिल्म: मलंग,
गायक: वेद शर्मा,
गीतकार: कुनाल वर्मा, हर्ष लिम्बाचिया,
संगीतकार: वेद शर्मा,

Malang Lyrics in Hindi

काफ़िर तो चल दिया
उस सफ़र के संग
काफ़िर तो चल दिया
उस सफ़र के संग
मंजिलें ना डोर कोई
ले के अपना रंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

मैं बैरागी साजी हूँ
ये भटकता मन
मैं बैरागी साजी हूँ
ये भटकता मन

अब कहाँ ले जायेगा
ये आवारा मन
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

रूबरू खुद से हुआ हूँ
मुझमें मुझको तू मिला
हो.. रूबरू खुद से हुआ हूँ
मुझमें मुझको तू मिला

बादलों के इस जहाँ में
आसमां तुझमें मिला
पिघली है अब रात भी
ऐसे हर्ब ये नम

ना खुदा में तो रहा
बन गया तू धरम
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

See also  Humraah – Malang Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *