ये जो देस है तेरा, स्वदेस है तेरा,
तुझे है पुकारा,
ये वो बंधन है जो कभी टूट नहीं सकता ,
 
मिट्टी की है जो ख़ुश्बू, तू कैसे भुलायेगा
तू चाहे कहीं जाये, तू लौट के आयेगा
नई-नई राहों में, दबी-दबी आहों में
खोये-खोये दिल से तेरे कोई ये कहेगा
ये जो देस…
 
तुझसे ज़िंदगी, है ये कह रही
सब तो पा लिया, अब है क्या कमी
यूँ तो सारे सुख हैं बरसे
पर दूर तू है अपने घर से
आ लौट चल तू अब दिवाने
जहाँ कोई तो तुझे अपना माने
आवाज़ दे तुझे बुलाने
वही देस
ये जो देस…
 
ये पल हैं वही, जिसमें हैं छुपी
पूरी इक सदी, सारी ज़िंदगी
तू न पूछ रास्ते में काहे
आये हैं इस तरह दो राहे
तू ही तो है राह जो सुझाये
तू ही तो है अब जो ये बताये
जाएं तो किस दिशा में जाये
वही देस
ये जो देस…
See also  Jahan Dal dal SOne ki Chidiya karti hai basera-deshbhakti Songs lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *