Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain Lyrics in Hindi from Bahu Beta Aur Maa (1992)

Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain Lyrics in Hindi. आज जो लड़की बहू बनी हैं song from Bahu Beta Aur Maa 1992. It stars Asha Chandra, Farida Jalal, Satish Kaul, Rama Vij. Singer of Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain is N/A. Lyrics are written by Kulwant Jani Music is given by Surender Kohli

Song Name : Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain
Album / Movie : Bahu Beta Aur Maa 1992
Star Cast : Asha Chandra, Farida Jalal, Satish Kaul, Rama Vij
Singer : N/A
Music Director : Surender Kohli
Lyrics by : Kulwant Jani

Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain Lyrics in Hindi :

आज जो लड़की बहू बनी हैं
कल वह सास बनेगी
यहीं कहानी इस दुनिया की
है और यहीं रहेगी

सास जो भी होगी ऐसी वैसी
सास जो भी होगी ऐसी वैसी
के लोगो उसकी
लोगो उसकी छुट्टी
करेंगे हम जाके
लोगो उसकी छुट्टी
करेंगे हम जाके

अब न सहेंगे ज़ुल्म किसी के
हम ससुराल में जाके
िनत का बदला पत्थर से
हम लेंगे ठीक बहजके
सदियों से जो होता आया
इस युग में नहीं होगा
अब खायेगी यह जवानी
इन भद्धियो से देखा
इन भद्धियो से देखा
अरे रे इन भद्धियो से देखा
इन भद्धियो से देखा
अरे रे इन भद्धियो से देखा

सदियो का यह दस्तूर पुराना
तोड़े यह आज की छोरी
आँख दिखाए रॉब जमाये
करे यह सीना जोरी
चोरी यह घर में आकर
सोचे हम पर हक़ चलना
वक़्त की सुइयों को यह
चाहे उल्टा आज घूमना
उल्टा आज घूमना
अरे रे उल्टा आज घूमना
उल्टा आज घूमना
अरे रे उल्टा आज घूमना
बहू जो भी होगी ऐसी वैसी
बहू जो भी होगी ऐसी वैसी
के लोगो उसकी
लोगो उसकी छुट्टी
करेंगे हम जाके
लोगो उसकी छुट्टी
करेंगे हम जाके

सास बुरी होती है नहीं
दुल्हन आने वाली
दूजी तीजी होती है यह
आग लगाने वाली
कभी पड़ोसन हटी है यह
कभी यह रिश्तेदारी
इसी िये तो हर एक घर
में फैली यह बिमारी
इस से बचने का है
सबसे अच्छा एक ही ज्ञान
कभी किसी की बातों पर
न धरे यह दोनी ध्यान
छोटी मोटी बाते क्यों
न आपस में निपटाये
कौन सा घर है ऐसा
जिस में बर्तन न टकराये
बर्तन न टकराये
अरे भाई बर्तन न टकराये
बर्तन न टकराये
अरे भाई बर्तन न टकराये.

Aaj Jo Ladki Bahu Bani Hain Lyrics in English :

Aaj jo ladki bahu bani hain
Kal woh saas banegi
Yahin kahani is duniya ki
Hai aur yahin rahegi

Saas jo bhi hogi aisi wasi
Saas jo bhi hogi aisi wasi
Ke logo uski
Logo uski chhutti
Karenge hum jaake
Logo uski chhutti
Karenge hum jaake

Ab na sahenge zulm kisi ke
Hum sasuraal mein jaake
Int ka badla patthar se
Ham lenge thik bahjake
Sadiyo se jo hota aaya
Is yug mein nahi hoga
Ab khayegi yeh jawani
In bhddhiyo se dokha
In bhddhiyo se dokha
Are re in bhddhiyo se dokha
In bhddhiyo se dokha
Are re in bhddhiyo se dokha

Sadiyo ka yeh dastoor purana
Tode yeh aaj ki chhori
Aankh dikhaye rob jamaye
Kare yeh sina zori
Chori yeh ghar mein aakar
Soche hum par huk chalna
Waqt ki suiyo ko yeh
Chahe ulta aaj ghumana
Ulta aaj ghumana
Are re ulta aaj ghumana
Ulta aaj ghumana
Are re ulta aaj ghumana
Bahu jo bhi hogi aisi wasi
Bahu jo bhi hogi aisi wasi
Ke logo uski
Logo uski chhutti
Karenge hum jaake
Logo uski chhutti
Karenge hum jaake

Saas boori hoti hai nahi
Dulhan aane wali
Duji tiji hoti hai yeh
Aag lagane wali
Kabhi padosan hti hai yeh
Kabhi yeh rishtedari
Isi iye to har ek ghar
Mein phaili yeh bimaari
Is se bachne ka hai
Sabse achha ek hi gyan
Kabhi kisi ki baato par
Na dhare yeh doni dhyan
Chhoti moti baate kyun
Na aaps mein niptaye
Kaun sa ghar hai aisa
Jis mein bartan na takraye
Bartan na takraye
Arey bhai bartan na takraye
Bartan na takraye
Arey bhai bartan na takraye.

Leave a Comment

Your email address will not be published.