Ankhiya Gulabi Jaise Lyrics in Hindi. अंखिया गुलाबी जैसे song from Beqasoor. It stars Madhubala, Ajit, Pramila, Yakub, Mangla, Gope, Geeta Nizami, Ramesh, Durga Khote. Singer of Ankhiya Gulabi Jaise is Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi. Lyrics are written by Ehsan Rizvi Music is given by Hansraj Behl

Song Name : Ankhiya Gulabi Jaise
Album / Movie : Beqasoor
Star Cast : Madhubala, Ajit, Pramila, Yakub, Mangla, Gope, Geeta Nizami, Ramesh, Durga Khote
Singer : Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi
Music Director : Hansraj Behl
Lyrics by : Ehsan Rizvi
Music Label : Saregama

Ankhiya Gulabi Jaise Lyrics in Hindi Beqasoor

Ankhiya Gulabi Jaise Lyrics in Hindi :

अंखिया गुलाबी जैसे
माध की हैं प्यालिया
माध की हैं प्यालिया
जागी हुई आँखों में
शर्म की हैं ललिया
शर्म की हैं ललिया

अंखिया गुलाबी जैसे
माध की हैं प्यालिया
माध की हैं प्यालिया
जागी हुई आँखों में
शर्म की हैं ललिया
शर्म की हैं ललिया

दिन हैं जवानी के उल्फ़त की रातें
दिन हैं जवानी के उल्फ़त की रातें
तारों की छाँव में
हैं प्यार भरी बाते
तारों की छाँव में
हैं प्यार भरी बाते
सुलझी हुयी लातो में हो हो हो
सुलझी हुयी लातो में
उलझ गयी बलिया
अंखिया गुलाबी जैसे
माध की हैं प्यालिया
माध की हैं प्यालिया
जागी हुई आँखों में
शर्म की हैं ललिया
शर्म की हैं ललिया

दुनिया मेरी आँखों
में है तेरे कयल की
दुनिया मेरी आँखों
में है तेरे कयल की
भरी हुयी फूलो से
है झोली सवाल की
भरी हुयी फूलो से
है झोली सवाल की
खिली हैं बहारों
में हो हो हो
खिली हैं बहारों
में फूलो की दलीय
अंखिया गुलाबी जैसे
माध की हैं प्यालिया
माध की हैं प्यालिया
जागी हुई आँखों में
शर्म की हैं ललिया
शर्म की हैं ललिया

आधी आधी रात
कोई कहे जगाये रे
आधी आधी रात
कोई कहे जगाये रे
नाजुक कलाई मेरी
बल खा ना जाये रे
आधी आधी रात
कोई कहे जगाये रे
सुन सुन कुश हुये हो हो हो
सुन सुन कुश हुए
मीठी मीठी गालियाँ
अंखिया गुलाबी जैसे
माध की हैं प्यालिया
माध की हैं प्यालिया
जागी हुई आँखों में
शर्म की हैं ललिया
शर्म की हैं ललिया.

Ankhiya Gulabi Jaise Lyrics in English :

Ankhiya gulabi jaise
Mad ki hain pyaliya
Mad ki hain pyaliya
Jagi huyi aankho mein
Sharam ki hain laliya
Sharam ki hain laliya

Ankhiya gulabi jaise
Mad ki hain pyaliya
Mad ki hain pyaliya
Jagi huyi aankho mein
Sharam ki hain laliya
Sharam ki hain laliya

Din hain jawani ke ulfat ki raate
Din hain jawani ke ulfat ki raate
Taaro ki chhanv mein
Hain pyar bhari bate
Taaro ki chhanv mein
Hain pyar bhari bate
Sulajhi huyi lato mein ho ho ho
Sulajhi huyi lato mein
Ulajh gayi baliya
Ankhiya gulabi jaise
Mad ki hain pyaliya
Mad ki hain pyaliya
Jagi huyi aankho mein
Sharam ki hain laliya
Sharam ki hain laliya

Duniya meinri aankho
Mein hai tere kayal ki
Duniya meinri aankho
Mein hai tere kayal ki
Bhari huyi phoolo se
Hai jholi sawal ki
Bhari huyi phoolo se
Hai jholi sawal ki
Khili hain baharo
Mein ho ho ho
Khili hain baharo
Mein phoolo ki daliya
Ankhiya gulabi jaise
Mad ki hain pyaliya
Mad ki hain pyaliya
Jagi huyi aankho mein
Sharam ki hain laliya
Sharam ki hain laliya

Aadhi aadhi rat
Koyi kahe jagaye re
Aadhi aadhi rat
Koyi kahe jagaye re
Najuk kalayi mori
Bal kha naa jaye re
Aadhi aadhi rat
Koyi kahe jagaye re
Sun sun kush huye ho ho ho
Sun sun kush huye
Mithi mithi galiya
Ankhiya gulabi jaise
Mad ki hain pyaliya
Mad ki hain pyaliya
Jagi huyi aankho mein
Sharam ki hain laliya
Sharam ki hain laliya.

Leave a Reply

Your email address will not be published.