Bahi Hai Jawaan Khoon Ki Lyrics in Hindi. बही है जवान खून की song from Bhool Na Jaana. It stars null. Singer of Bahi Hai Jawaan Khoon Ki is Prabodh Chandra Dey (Manna Dey). Lyrics are written by Hariram Acharya Music is given by Daan Singh

Song Name : Bahi Hai Jawaan Khoon Ki
Album / Movie : Bhool Na Jaana
Star Cast : null
Singer : Prabodh Chandra Dey (Manna Dey)
Music Director : Daan Singh
Lyrics by : Hariram Acharya

Bahi Hai Jawaan Khoon Ki Lyrics in Hindi Bhool Na Jaana

Bahi Hai Jawaan Khoon Ki Lyrics in Hindi :

उठा है शोर-इ-तूफ़ान
ज़हर बिखरा है हवाओं से
जमीन थर्रा उठी है
खून बरसा है घटाओं से
तबाही का गुबार उठा
गिरे हैं टूट कर तारे
महेक्ति वादियों में
ज़ुल्म के भड़के हैं अंगारे

बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

हिमालय के सीने पे शोले गिराता
बढ़ा है पवन जुंग का सनसनाता
चमन अपने खूंखार ने रौंद डाले
अमन के कबूतर के पर नोच डाले
है ऋषियों की धरती पे आयी तबाही
ये तारीख पर पूत रही फिर सियाही
दरिंदों ने सीमा पे है पाग पसारा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

उठो सरफरोशों
बुलाती है खाक़-इ-चमन बागबानों
शहीदों की सौगंध ले सर उठाओ
लहू से विजय का तिलक तुम लगाओ
मिटोगे तभी माँ को जीवन मिलेगा
बढ़ोगे तभी जन्म इतिहास लेगा
निछावर वतन पर हो जीवन तुम्हारा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

फ़िज़ाओं पे जिसकी है जन्नत निछावर
दुआओं पे दुनिया की दौलत निछावर
वो माँ आज गोली से घायल कड़ी है
हमारे लिए इम्तिहान की घड़ी है
उठो माँ की अस्मत का दामन बचाओ
सपूतों बढ़ो जान पर खेल जाओ
दिलाती कसम तुम को गंगा की धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

ये धरती है सब से बड़ी माँ हमारी
यही ज़िन्दगी है यही जान हमारी
सुहागन का कंगन हो इस पर निछावर
के राखी का बंधन हो इस पर निछावर
के माँ अपनी ममता के मोती लुटाये
वतन की हिफाजत के सामान जुटाए
हो बलिदान ही आज मज़हब तुम्हारा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा
बही है जवान खून की आज धरा
उट्ठो हिन्द की सैर-ज़मीन ने पुकारा

हैं हम सत्य की राह के वीर राही
हैं हम न्याय की सल्तनत की सिपाही
जहां ज़ुल्मतों का मिटा कर रहेंगे
अमन की किरण हम जगा कर रहेंगे
जहां खून के गरम कतरे गिरेंगे
वहीँ से नए कारवाँ बढ़ चलेंगे
गगन तक उड़ेगा तिरंगा हमारा
गगन तक उड़ेगा तिरंगा हमारा
तिरंगा हमारा.

Bahi Hai Jawaan Khoon Ki Lyrics in English :

Utthaa hai shor-e-toofaan
Zeher bikhraa hai hawaaon se
Zameen thharraa utthi hai
Khoon barsaa hai ghataaon se
Tabaahi ka gubaar utthaa
Girey hain toot kar taare
Mehekti waadiyon mein
Zulm ke bhadke hain angaarey

Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Himalay ke seene pe shole giraata
Badhaa hai pawan jung ka sansanaata
Chaman apne khoonkhaar ne raund daale
Aman ke kabootar ke par noch daale
Hai rishiyon ki dharti pe aayee tabaahi
Ye taareekh par put rahi phir siyaahi
Darindon ne seema pe hai pag pasaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Uttho sarfaroshon, uttho naujawaanon
Bulaati hai khaaq-e-chaman baagbaanon
Shaheedon ki saugandh le sar utthaao
Lahoo se vijay ka tilak tum lagaao
Mitoge tabhi maa ko jeevan milegaa
Badhoge tabhi janm itihaas legaa
Nichhaawar watan par ho jeevan tumhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Fizaaon pe jiski hai jannat nichhaawar
Duaaon pe duniya ki daulat nichhaawar
Wo maa aaj goli se ghaayal khadi hai
Hamaare liye imtihaan ki ghadi hai
Uttho maa ki asmat ka daaman bachaao
Sapooton badho jaan par khel jaao
Dilaati kasam tum ko ganga ki dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Ye dharti hai sab se badi maa hamaari
Yehi zindagi hai yehi jaan hamaari
Suhaagan ka kangan ho is par nichhaawar
Ke raakhi ka bandhan ho is par nichhaawar
Ke maa apni mamta ke moti lutaaye
Watan ki hifaazat ke samaan jutaaye
Ho balidaan hi aaj mazhab tumhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara
Bahi hai jawaan khoon ki aaj dhaara
Uttho hind ki sar-zameen ne pukaara

Hain hum satya ki raah ke veer raahi
Hain hum nyaaye ki saltanat ki sipaahi
Jahaan zulmaton ka mitaa kar rahenge
Aman ki kiran hum jagaa kar rahenge
Jahaan khoon ke garm katre girenge
Wahin se naye kaarvaan badh chalenge
Gagan tak udegaa tirangaa hamaara
Gagan tak udegaa tirangaa hamaara
Tirangaa hamaara.

Leave a Reply

Your email address will not be published.