Dard Toh Rukne Ka Lyrics in Hindi. दर्द तोह रुकने का song from Bewafa Sanam 1995. It stars Krishan Kumar, Shilpa Shirodkar, Aruna Irani, Shakti Kapoor, Kiran Kumar. Singer of Dard Toh Rukne Ka is Bhupinder Singh. Lyrics are written by Attaullah Khan Esakhelvi Music is given by Nikhil, Vinay

Song Name : Dard Toh Rukne Ka
Album / Movie : Bewafa Sanam 1995
Star Cast : Krishan Kumar, Shilpa Shirodkar, Aruna Irani, Shakti Kapoor, Kiran Kumar
Singer : Bhupinder Singh
Music Director : Nikhil, Vinay
Lyrics by : Attaullah Khan Esakhelvi
Music Label : T-series

Dard Toh Rukne Ka Lyrics in Hindi Bewafa Sanam 1995

Dard Toh Rukne Ka Lyrics in Hindi :

दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
सबर से दिल भी मेरा
सबर से दिल भी मेरा
काम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का

जबसे बख्से है
मेरी आँखों को आँसू तूने
जबसे बख्से है
मेरी आँखों को आँसू तूने
तबसे दीवाना दिल तबसे
दीवाना दिल ाराम नहीं लेता है
सबर से दिल भी
मेरा सबर से दिल भी मेरा
काम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का

इतना संगदिल है के
बर्बाद वो करके मुझको
इतना संगदिल है के
बर्बाद वो करके मुझको
अपने सर कोई भी
अपने सर कोई भी
इलज़ाम नहीं लेते है
सबर से दिल भी
मेरा सबर से दिल भी मेरा
काम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का

ये इनायत भी नहीं
कम मेरे हजायी की
ये इनायत भी नहीं
कम मेरे हजायी की
जख्म देता है मगर
ज़ख़्म देता है मगर
डैम नहीं लेता है
सबर से दिल भी
मेरा सबर से दिल भी मेरा
काम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
अब नाम नहीं लेता है
दर्द तो रुकने का
दर्द तो रुकने का
दर्द तो रुकने का.

Dard Toh Rukne Ka Lyrics in English :

Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Sabar se dil bhi mera
Sabar se dil bhi mera,
Kam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Dard to rukne ka

Jabse bakhse hai
Meri ankho ko ansu tune
Jabse bakhse hai
Meri ankho ko ansu tune
Tabse diwana dil tabse
Deewana dil aram nahi leta hai
Sabar se dil bhi
Mera sabar se dil bhi mera,
Kam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Dard to rukne ka

Itna sangdil hai ke
Barbad wo karke mujhko
Itna sangdil hai ke
Barbad wo karke mujhko
Apne sar koi bhi,
Apne sar koi bhi
Ilzam nahi lete hai
Sabar se dil bhi
Mera sabar se dil bhi mera,
Kam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Dard to rukne ka

Ye inayat bhi nahi
Kam mere hazayi ki
Ye inayat bhi nahi
Kam mere hazayi ki
Jakham deta hai magar,
Zakham deta hai magar
Dam nahi leta hai
Sabar se dil bhi
Mera sabar se dil bhi mera,
Kam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Ab naam nahi leta hai
Dard to rukne ka
Dard to rukne ka
Dard to rukne ka.

Leave a Reply

Your email address will not be published.