Dhoondh Ke Laoon Kahan Se Lyrics in Hindi. ढूंढ के लाऊं कहाँ से song from Bahu Begum 1967. It stars Ashok Kumar, Pradeep Kumar, Meena Kumari. Singer of Dhoondh Ke Laoon Kahan Se is Mohammed Rafi, Prabodh Chandra Dey (Manna Dey). Lyrics are written by Sahir Ludhianvi Music is given by Roshanlal Nagrath (Roshan)

Song Name : Dhoondh Ke Laoon Kahan Se
Album / Movie : Bahu Begum 1967
Star Cast : Ashok Kumar, Pradeep Kumar, Meena Kumari
Singer : Mohammed Rafi, Prabodh Chandra Dey (Manna Dey)
Music Director : Roshanlal Nagrath (Roshan)
Lyrics by : Sahir Ludhianvi
Music Label : Saregama

Dhoondh Ke Laoon Kahan Se Lyrics in Hindi Bahu Begum 1967

Dhoondh Ke Laoon Kahan Se Lyrics in Hindi :

अब जा बलब हु शिद्दते
आहे दरद े निहा से में
अब जा बलब हु शिद्दते
अब जा बलब हु शिद्दते
दर्द ए निहा से में
हाय दरद इ निहा से में
है ऐसे में तुझको
ढूंड के अब लाऊं
कहाँ से में
ऐसे में तुझको
ढूंढ ढूंढ के लाऊं
कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ऐसे में तुझको
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ऐ ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में

ज़मी हम दर्द है मेरी
न हम दम आस्मा मेरा
तेरा दर्द छूट गया तो
फिर ठिकाना है कहा मेरा
कसम है तुझको
तुझको कसम है
जग महफ़िल न जाये रा
ये गौ मेरा
यही है इन्तिहा तारा
यही है इन्तिहा मेरा
एक सिंत मुहोब्बत है
एक सिंत ज़माना है
अब ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में

तेरा ख्याल तेरी तमन्ना लिए हुए
दिल बहज रहा है ास का शोला लिए हुए
हे रहे कड़ी हुई है
जो रहे पे ज़िन्दगी
हे राह खड़ी हुई है
जो रहे पे ज़िन्दगी
नाकाम हजरातों का
जनाज़ा लिए हुए
अब ऐसे में तुझको

ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
आवाज़ दे रहा हे
दिले ख़ानमा ख़राब
आवाज़ दे रहा हे
दिले ख़ानमा ख़राब
सीने में ईएसएस तरब है
सांसो में पे छुपा
है रहे है इश्क़ जाने
वफ़ा कुछ तो दे जवाब
अब जा बलब हु शिद्दते
आहे दरद े निहा से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ढूंड के लाऊं कहाँ से में
ऐसे में ऐसे में तुझको
ढूंड के अब लाऊं कहाँ से में
ऐसे में तुझको ढूंढ के.

Dhoondh Ke Laoon Kahan Se Lyrics in English :

Ab ja balab hu shiddate
Ahe derd e niha se mein
Ab ja balab hu shiddate
Ab ja balab hu shiddate
Derd e niha se mein
Haye derd e niha se mein
Ha aise mein tujhko
Dhund ke ab laoon
Kahan se mein
Aise mein tujhko
Dhund dhund ke laoon
Kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Aise mein tujhko
Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Ae dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein

Zami hum dard hai meri
Na hum dum aasma mera
Tera dard chhut gaya to
Phir thikana hai kaha mera
Kasam hai tujhko
Tujhko kasam hai
Jag mehfil na jaye ra
Ye gau mera
Yahi hai intiha tara
Yahi hai intiha mera
Ek sint muhobbat hai
Ek sint zamana hai
Ab dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein

Tera khayal teri tamanna liye huye
Dil buhj raha hai aas ka shola liye huye
He rahe khadi hui hai
Jo rahe pe zindagi
He rah khadi hui hai
Jo rahe pe zindagi
Nakam hajrato ka
Janaza liye huye
Ab aise mein tujhko

Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Aawaz de raha he
Dile khanma kharab
Aawaz de raha he
Dile khanma kharab
Sine mein ess tarab hai
Sanso mein pe chhupa
Hai ruhe hai ishq jaane
Wafa kuch to de jawab
Ab ja balab hu shiddate
Ahe derd e niha se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Dhund ke laoon kahan se mein
Aise mein aise mein tujhko
Dhund ke ab laoon kahan se mein
Aise mein tujhko dhund ke.

Leave a Reply

Your email address will not be published.