Dil Mein Ek Jaan E Tamanna Ne Lyrics in Hindi. दिल में एक जान े तमन्ना ने song from Benazir 1964. It stars Meena Kumari, Ashok Kumar, Shashi Kapoor, Tanuja, Nirupa Roy, Durga Khote, Asit Sen. Singer of Dil Mein Ek Jaan E Tamanna Ne is Mohammed Rafi. Lyrics are written by Shakeel Badayuni Music is given by Sachin Dev Burman

Song Name : Dil Mein Ek Jaan E Tamanna Ne
Album / Movie : Benazir 1964
Star Cast : Meena Kumari, Ashok Kumar, Shashi Kapoor, Tanuja, Nirupa Roy, Durga Khote, Asit Sen
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Sachin Dev Burman
Lyrics by : Shakeel Badayuni
Music Label : Saregama

Dil Mein Ek Jaan E Tamanna Ne Lyrics in Hindi :

आज शीशे मैं बार बार उन्हें
दिल की मूरत दिकहि देती हैं
अपनी सूरत नज़र नहीं आती
मेरी सूरत दिखाई देती हैं

दिल में एक जाने तमन्ना ने जगह पायी है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आयी है
दिल में एक जाने तमन्ना ने जगह पायी है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आयी है
दिल में एक जाने तमन्ना ने जगह पायी है

आ गया मेरे तस्सवुर में कोई परदा नशि
आ गया मेरे तस्सवुर में कोई परदा नशि
आज हर चीझ नजर आने लगी मुझको हसीं
क्या कहूँ मै बड़ी डील काश मेरी तनहाई है
आज गुलशन में नहीं
दिल में एक जाने तमन्ना ने जगह पायी है

हुस्न के सामने इशारे वफ़ा है मुश्किल
हुस्न के सामने इशारे वफ़ा है मुश्किल
काश छुपकर ही वह सुनले मेरा अफ़साने दिल
जिसने यह प्यार की मंजिल मुझे दिखलायी है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आयी है
दिल में एक जाने तमन्ना ने जगह पायी है.

Dil Mein Ek Jaan E Tamanna Ne Lyrics in English :

Aaj seeshe main baar baar unhe
Dil ki murat dikahi deti hain
Apni surat nazar nahi aati
Meri surat dekhai deti hain

Dil me ek jane tamanna ne jagah payi hai
Aaj gulshan me nahee ghar me bahar aayi hai
Dil me ek jane tamanna ne jagah payi hai
Aaj gulshan me nahee ghar me bahar aayi hai
Dil me ek jane tamanna ne jagah payi hai

Aa gaya mere tassvur me koyee parda nashi
Aa gaya mere tassvur me koyee parda nashi
Aaj har chijh najar aane lagee mujhko hasin
Kya kahu mai badi dil kash meree tanahayi hai
Aaj gulshan me nahee, ghar me bahar aayi hai
Dil me ek jane tamanna ne jagah payi hai

Husn ke samne ishare wafa hai mushkil
Husn ke samne ishare wafa hai mushkil
Kash chupkar hee woh sunle meraa afsane dil
Jisne yeh pyar kee manjil muje dikhlayi hai
Aaj gulshan me nahee ghar me bahar aayi ha
Dil me ek jane tamanna ne jagah payi hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published.