Hans Ke Guzari Zindagi Lyrics in Hindi from Brahma (1994)

Hans Ke Guzari Zindagi Lyrics in Hindi. हंस के गुज़री ज़िन्दगी song from Brahma 1994. It stars Govinda, Madhoo, Ayesha Jhulka. Singer of Hans Ke Guzari Zindagi is Kumar Sanu. Lyrics are written by Prayag Raj Music is given by Bappi Lahiri

Song Name : Hans Ke Guzari Zindagi
Album / Movie : Brahma 1994
Star Cast : Govinda, Madhoo, Ayesha Jhulka
Singer : Kumar Sanu
Music Director : Bappi Lahiri
Lyrics by : Prayag Raj
Music Label : Sony Music

Hans Ke Guzari Zindagi Lyrics in Hindi Brahma 1994

Hans Ke Guzari Zindagi Lyrics in Hindi :

हंस के गुजार ज़िन्दगी है वही आदमी
प्यार से सवारे ज़िन्दगी है वही आदमी
मुस्किलो से डरता नहीं दुश्मनो से करे दोस्ती
है वही आदमी
हंस के गुजार ज़िन्दगी है वही आदमी
प्यार से सवारे ज़िन्दगी है वही आदमी

मेरा तेरा कहता है लेकिन तेरा कुछ नहीं
सब तो दिया है खुदा ने पर तू खुश नहीं
मेरा तेरा कहता है लेकिन तेरा कुछ नहीं
सब तो दिया है खुदा ने पर तू खुश नहीं
जिनको कभी कुछ न मिला उनके लिए कुछ कर के जा
कम ऐसा कर जाये जो वो मर के भी मरता नहीं
है वही आदमी
हंस के गुजार ज़िन्दगी है वही आदमी
प्यार से सवर ज़िन्दगी है वही आदमी

ढेर था एक मिटटी का जिसमे डाली जान
रुप मिला इस्वर का और बाना इंसान
ढेर था एक मिति का जिसमे डाली जान
रुप मिला इस्वर का और बाना इंसान
सब को दे प्यार सबसे ले प्यार
गम के जहा में ले आया बहार
खुद जो अँधेरे में चले
दूसरों को दे रौशनी
है वही आदमी
हंस के गुजार ज़िन्दगी है वही आदमी
प्यार से सवारे ज़िन्दगी है वही आदमी
मुस्किलो से डरता नहीं दुश्मनो से करे दोस्ती
है वही आदमी.

Hans Ke Guzari Zindagi Lyrics in English :

Hans ke gujare zindagi hai wahi admi
Pyar se sware zindagi hai wahi admi
Muskilo se darta nahi dusmano se kare dosti
Hai wahi admi
Hans ke gujare zindagi hai wahi admi
Pyar se sware zindagi hai wahi admi

Mera tera kahta hai lekin tera kuchh nahi
Sab to diya hai khuda ne par tu khus nahi
Mera tera kahta hai lekin tera kuchh nahi
Sab to diya hai khuda ne par tu khus nahi
Jinko kabhi kuchh na mila unke liye kuchh kar ke ja
Kam aisa kar jaye jo wo mar ke bhi marta nahi
Hai wahi admi
Hans ke gujare zindagi hai wahi admi
Pyar se saware zindagi hai wahi admi

Dher tha ek mitti ka jisme dali jaan
Rup mila iswar ka or bana insan
Dher tha ek miti ka jisme dali jaan
Rup mila iswar ka or bana insan
Sab ko de pyar sabse le pyar
Gum ke jaha mein le aya bahar
Khud jo andhere mein chale
Dusro ko de roshni
Hai wahi admi
Hans ke gujare zindagi hai wahi admi
Pyar se sware zindagi hai wahi admi
Muskilo se darta nahi dusmano se kare dosti
Hai wahi admi.

Leave a Comment

Your email address will not be published.